इस बड़ी कंपनी ने नहीं चुकाई कर्ज की किस्त तो CEO ने दिया इस्तीफा, जानिए पूरा मामला
दिल्ली में फिर महंगी हुई CNG-PNG, जानें क्या है नए रेट्स
पीएम मोदी आज करेंगे पेमेंट्स बैंक का उद्घाटन, 650 शाखाओं से होगी शुरुआत
आज से बदल गईं ये 4 चीजें! बैंक से लेकर रेलवे तक आपकी जेब पर ऐसे पड़ेगा असर
SBI की चेतावनी! अगर मिला है ये SMS तो तुरंत करें बैंक से संपर्क, नहीं तो खाली हो जाएगा अकाउंट
देश की अर्थव्यवस्था ने पकड़ी रफ्तार, अप्रैल-जून तिमाही में GDP ग्रोथ रेट 8.2%
भारतीय रुपया फिर हुआ कमज़ोर! अब एक अमेरिकी डॉलर की कीमत 71 रुपये
 जानिए बैंकों में लंबी छुट्टियों वाले मैसेज का पूरा सच
168 दिनों की वैधता के साथ Vodafone लाया नया प्लान, मिलेगा डाटा और कॉलिंग
SBI क्रेडिट कार्ड से बिना OTP निकाले गए पैसे, ऐसे मिले 30724 रुपये वापस
सितंबर में होंगे ये 3 बड़े बदलाव, बैंक से लेकर रेलवे तक आपकी जेब पर ऐसे डालेंगे असर
फिर बढ़ गए पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए आज क्या है आपके शहर के भाव
दिवालिया हो सकती हैं देश की 70 बड़ी कंपनियां! अडानी-अंबानी की कंपनी भी शामिल
बड़े PF घोटाले का खुलासा! कंपनी ने ऐसे लगाई कर्मचारियों को करोड़ों रुपये की चपत
एयर इंडिया के लिए केंद्र ने मंजूर किया 7000 करोड़ का बेलआउट पैकेज

एयर इंडिया के लिए केंद्र ने मंजूर किया 7000 करोड़ का बेलआउट पैकेज

वित्त मंत्रालय ने सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया को घाटे से उबारने के लिए 7000 करोड़ रुपये की बेल आउट पैकेज को मंजूरी दी है. सूत्रों ने सीएनबीसी-आवाज को बताया कि इस सप्ताह के अंत तक बेलआउट पैकेज की घोषणा की जा सकती है. अधिकारियों ने बताया कि बेलआउट दो भागों में होगा. 7000 करोड़ रुपये का पूजीं निवेश और ऋण को स्पेशल पर्पज व्हीकल (विशेष कारण वाहन) को ट्रांसफर करना. कैश-स्ट्रैप्ट करियर की तरफ से मंत्रालय भी 2000 करोड़ रुपये की बैंक गारंटी देगा. सूत्रों ने बताया कि एयरलाइन द्वारा इस धन का इस्तेमाल कार्यशील पूंजी (वर्किंग कैपिटल) के तौर पर किया जाएगा. हाल में नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने घाटे में चल रही एयर इंडिया को उबारने के लिए वित्त मंत्रालय के साथ चर्चा की थी और 11000 हजार करोड़ रुपये के बेलआउट पैकेज की मांग की थी, लेकिन इसे खारिज कर दिया गया. सूत्रों ने कहा कि नई बकाया योजना के पहले हिस्से में परिसंपत्तियों का मुद्रीकरण करके कंपनी पर ऋण के बोझ को कम करने के लिए एयर इंडिया की गैर-मूल संपत्तियों, सहायक कंपनियों और ऋण को एक स्पेशल पर्पज व्हीकल में ट्रांसफर करना शामिल है. सूत्रों ने बताया कि एयर इंडिया की सभी भूमि, इमारतों और सहायक कंपनियों को एसपीवी में स्थानांतरित कर दिया जाएगा, उन्होंने कहा कि मुद्रीकरण के लिए एक साल का समय सीमा निर्धारित की गई है। 35,484 करोड़ रुपये का कर्ज एसपीवी में ट्रांसफर कर दिया जाएगा, जबकि 19, 826 करोड़ रुपये एयरलाइन के साथ रहेगा. कुल ऋण में लगभग 22,000 करोड़ रुपये को अन्सस्टेनबल (अरक्षणीय) माना जाता है, जिसका अर्थ है कि इसे नकदी प्रवाह आय के साथ सेवा नहीं दी जा सकती है. बकाया योजना के दूसरे भाग में 7,000 करोड़ रुपये का पूंजी निवेश शामिल है जो तीन चरणों में किया जाएगा. अगले महीने तक एयरलाइन को 6,000 करोड़ रुपये दिए जाएंगे, जबकि दिसंबर में 400 करोड़ रुपये दिए जाएंगे और शेष 600 करोड़ रुपये अगले साल मार्च में दिए जाएंगे. इससे पहले नागरिक उड्डयन सचिव आरएन चौबे ने कहा कि सरकार प्रोत्साहन पैकेज देने से पहले एयरलाइन को प्रतिस्पर्धी बनाना चाहती है. बता दें कि एयरलाइन के खराब वित्तीय प्रबंधन की वजह से सरकार की एयर इंडिया के निजीकरण की योजना सफल नहीं हो पाई थी.

28-Aug-2018

SBI के इस अकाउंट से ईज़ी लोन के साथ मिलेंगी और भी खास सुविधाएं
ATM की तर्ज पर होंगे पेट्रोल पंप, कैशलेस भुगतान कर गाड़ियों में खुद भर सकेंगे तेल
मोबाइल बैंकिंग ग्राहकों के लिए बेहद काम की हैं ये बातें, अकाउंट रहेगा हमेशा सेफ़
कटे-फटे नोट बदलने का आसान तरीका, जानें RBI की तरफ से जारी 4 नियम