दिल्ली-NCR में भी चला ट्रंप का जादू, पहले ही दिन बिके 'ट्रंप टावर्स' के 20 सुपर लग्जरी फ्लैट
गोल्फ कोर्स एक्सटेंशन रोड पर बन रही इमारत भारत में अपने आप में पुणे, मुंबई और कोलकाता के बाद चौथी है.


गुरुग्राम : डोनाल्ड ट्रंप का जादू दिल्ली-एनसीआर के लोगों पर भी चल गया है. एम3एम इंडिया और त्रिबिका डेवलपर्स ने बुधवार को 'ट्रंप टावर्स दिल्ली एनसीआर' के शुभारंभ की घोषणा की थी और ट्रंप के नाम का कुछ ऐसा असर देखने को मिला कि लॉन्च के पहले ही दिन, एम3एम समूह ने 20 सुपर लग्जरी घरों की बिक्री कर 150 करोड़ रुपये जुटा लिए. एम3एम इंडिया और त्रिबिका डेवलपर ने एक बयान में कहा, "भारत के लग्जरी आवासीय बाजार में सुस्ती के बावजूद, इस परियोजना ने बिक्री के सभी रिकॉर्डो को तोड़ दिया है."

पहले 100 खरीदार जाएंगे अमेरिका
एम3एम समूह के निदेशक पंकज बंसल ने कहा, "हमने गुरुग्राम के प्रतिष्ठित ट्रंप टावर्स की शुरुआत के पहले दिन 150 करोड़ रुपये की बिक्री दर्ज की है. पहले 100 खरीदार अमेरिका जाएंगे जहां उनकी मेजबानी डोनाल्ड ट्रंप जूनियर करेंगे. यह परियोजना गोल्फ कोर्स रोड एक्सटेंशन में हमारे फ्लैगशिप प्रोजेक्ट एम3एम गोल्फ एस्टेट का हिस्सा है." बता दें कि, कोलकाता में पिछले साल ट्रंप टॉवर के लॉन्च के बाद इसके भारतीय डेवलपर ने बुधवार को 600 फीट लंबे रिहायशी इमारत में घरों की बिक्री जल्द शुरू करने की घोषणा की. 

लग्जरी घरों की कीमत 5 करोड़ से 10 करोड़ के बीच है
एम3एम समूह ने इस परियोजना में कुल 1200 करोड़ रुपये (जमीन की लागत के अन्य) का निवेश किया है जिसकी बिक्री से वह 2500 करोड़ रुपये की आय का अनुमान लगा रहे हैं. परियोजना में 250 उच्च लग्जरी घरों की पेशकश की गई है जिसकी कीमत 5 करोड़ रुपये से लेकर 10 करोड़ रुपये के बीच है. फ्लैट का आकार 3500 वर्ग फुट से 7500 वर्ग फुट तक है. ट्रंप संगठन के कार्यकारी उपाध्यक्ष डोनाल्ड ट्रंप जूनियर ने कहा, "बेहतरीन बनावट, खूबसूरत आंतरिक संरचना का विकल्प और भव्य सुविधाजनक खाली स्थान के साथ हमारा मकसद गुरुग्राम को ट्रंप ब्रांड और लग्जरी लिविंग का सवश्रेष्ठ देना है."

क्या खास है इमारत में?
गोल्फ कोर्स एक्सटेंशन रोड पर बन रही इमारत भारत में अपने आप में पुणे, मुंबई और कोलकाता के बाद चौथी है. इसमें ग्लास लगा गृह मुख, आकर्षक लाइनों और एक भव्य रूप के साथ यह इमारत ट्रंप शैली का प्रतिबिब है. सभी कमरों में फ्लोर से छत तक की खिड़कियां हैं. हर आवास का एक निजी एलीवेटर है जबकि एक तिहाई आवासों में 22 फीट की डबल ऊंचाई वाले कमरे होंगे. 

अधिक बिज़नेस की खबरें