बैन होगी बिना ISI मार्क वाले हेल्मेट्स की बिक्री
सरकार ने यह कदम रोड ऐक्सिडेंट्स की घटनाओं को कम किए जाने की कोशिश के मद्देनज़र उठाया है।


नई दिल्ली : आईएसआई हेल्मेट को लेकर सरकार ने सख्त कदम उठाया है। इस साल के अंत तक बिना आईएसआई मार्क वाले हेल्मेट बेचना अपराध की श्रेणी में आ जाएगा। सरकार ने सभी हेल्मेट निर्माता कंपनियों के लिए बीआईएस यानी ब्यूरो आॅफ इंडियन स्टैंडर्ड्स से भारतीय सुरक्षा मानकों के अनुरूप सर्टिफिकेशन हासिल करना अनिवार्य कर दिया है। सरकार ने यह कदम रोड ऐक्सिडेंट्स की घटनाओं को कम किए जाने की कोशिश के मद्देनज़र उठाया है।

एक सीनियर मिनिस्ट्री आॅफिशल ने बुधवार को कहा कि,'बीआईएस ने सुप्रीम कोर्ट पैनल को सड़क सुरक्षा को लेकर सूचित किया है कि वह अपनी प्रक्रिया को 6 महीनों में पूरा कर लेगा।' इस अवसर पर नितिन गडकरी और धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद थे। उन्होंने एक मोबाइल ऐप और ड्राइवर ट्रेनिंग स्कीम को लॉन्च किया ताकि सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों पर नजर रखी जा सके। 

गैर आईएसआई मार्क वाले हेल्मेट इस्तेमाल करने वालों पर कानून का उल्लंघन करने के लिए हाई पेनल्टी चार्ज की जाएगी। बीआईएस के मानकों के अनुसार, बिना आईएसआई मार्क वाले हेल्मेट अवैध हैं। बगैर आईएसआई मार्क वाले हेल्मेट पहनकर बाइक ड्राइव करने या उसपर बैठने पर चालान का नियम है। हाफ हेल्मेट स्वीकार्य हैं, बशर्ते कि उनपर आईएसआई का मार्क हो।

अधिक बिज़नेस की खबरें