52 युवाओं को मारुति सुजुकी ने मोटर वाहन प्रबंधन सर्टिफिकेट कोर्स के लिए चुना
मुख्यमंत्री कौशल विकास के तहत् देश की अग्रणी ऑटोमोबाईल कंपनी मारूति सुजुकी ने नई उड़ान दी है।



जशपुर :  बेरोजगार युवाओें के सपनों को मुख्यमंत्री कौशल विकास के तहत् देश की अग्रणी ऑटोमोबाईल कंपनी मारूति सुजुकी ने नई उड़ान दी है। कंपनी ने जिले के 52 युवकों को मोटर वाहन प्रबंधन सर्टिफिकेट कोर्स के लिए चुना है। प्रदेश और जिले के लिए गौरव की बात है कि इतनी बड़ी संख्या में मारूति सुजुकी द्वारा पहली बार युवाओं का चयन किया गया है। प्रशिक्षण के लिए चयन होने पर युवा काफी खुश हैं। उनका कहना है कि रोजगार मिलने से उनके सपने सच होंगे और वे अपना और परिवार का बेहतर तरीके से भरण पोषण कर सकेंगे। कलेक्टर डॉ प्रियंका शुक्ला की पहल पर जिले के  बेरोजगार युवाओं को रोजगार के बेहतर अवसर प्रदान करने के लिए मारूति सुजुकी ने जशपुर में परीक्षा का आयोजन कर युवाओं का चयन सर्टिफिकेट कोर्स के लिए किया। चयनित युवाओं में से अधिकांश युवा अनुसूचित जनजाति वर्ग से हैं।

कलेक्टर ने बताया है कि मारूति सुजूकी प्रशिक्षण अकादमी द्वारा 18 से 21 वर्ष के युवाओं के लिखित परीक्षा और साक्षात्कार के बाद 52 युवाओं का चयन दो वर्षीय मोटर वाहन प्रबंधन कोर्स के लिए किया गया है। चयनित युवाओं को प्रशिक्षण अवधि में दस हजार रूपए प्रतिमाह छात्रवृत्ति दी जाएगी। प्रशिक्षण अवधि में प्रशिक्षार्थियों को स्वास्थ्य सुविधाएं, जीवन बीमा के अतिरिक्त अन्य सुविधाएं भी प्रदान की जाएंगी। चयनित युवाओं को गुड़गांव स्थित प्लांट में ऑटोमोबाईल विनिर्माण का प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण के दौरान सेमेस्टर के आधार पर परीक्षा का आयोजन किया जाता है। मारूति सुजूकी प्रशिक्षण अकादमी के वाईस प्रेसीडेंट मुकेश कुमार गुप्ता ने बताया प्रशिक्षणर्थियों को राष्ट्रीय व्यावसायिक परिषद से प्रमाण पत्र प्रदान किया जाता है। जिसकी मान्यता सभी देशों में हैं। 

प्रशिक्षण अवधि के समाप्त होने पर उपकरण निर्माताओं, डीलरशिप और सेवा केन्द्रों में इन्हें नियोजित किया जाएगा।प्रशिक्षण के लिए चयनित पत्थलगांव जनपद के ग्राम गाला निवासी शेखर देहरी के पिता कृषि कार्य करते हैं। उन्होंने बताया कि थोड़ी सी ही जमीन है। इस कारण दूसरे किसानों की जमीन साझे पर लेकर उस पर भी कृषि कार्य करते हैं। फिर भी परिवार चलाने में परेशानी होती है। शेखर की माता गृहिणी हैं और वे भी कृषि कार्य में हाथ बटाती हैं। शेखर का कहना है कि अब उसके सपने सच होंगे, उसे नौकरी मिल जाएगी तो वो अपने परिवार का बेहतर तरीके से भरण पोषण और जरूरतें पूरी कर सकेगा। अपनी दोनों बहनों को वो बेहतर शिक्षा दिलाना चाहता है। 

मुड़ापारा के रविन्द्र कुजुर के पिता कृषक हैं। रविन्द्र के दो भाई कार्तिक उरांव हाईस्कूल में पढ़ते हैं। वह अपने भाईओं को इंजीनियर बनाना चाहता है। चयन होने  पर वह बहुत खुश है। उसका कहना है कि रोजगार हासिल करके अपने परिवार को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराना चाहता है। दुलदुला के शैलेन्द्र नेताम बीपीएल परिवार से आते हैं। उनका कहना है कि वे कुछ महीनों से रोजगार के तलाश में थे। 

उन्होंने जिला प्रशासन और मारूति सुजुकी को धन्यवाद देते हुए कहा कि इनके कारण ही उन्हें रोजगार मिला। अब वे अपने परिवार की जरूरतों को आसानी से पूरा कर सकेंगे।
मोटर वाहन प्रबंधन सर्टिफिकेट कोर्स चयन परीक्षा जशपुर के बालक उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में हुई। लिखित परीक्षा में 378 युवा शामिल हुए। लिखित परीक्षा के बाद 150 युवाओं का चयन साक्षात्कार के लिए हुआ। साक्षात्कार के बाद 52 युवाओं का चयन हुआ।

 पत्थलगांव जनपद से शेखर, उत्तम कुमार भगत, अनिल नाग, ब्रज किशोर, अजय कुमार, संतोष कुमार, दीपक ,आभास चौहान, प्रेमकुमार सिंह, अक्षय पन्ना, गजेन्द्र साय, सुरेश सिंह, जयराम चौहान, गोपाल सिंह, दिनेश राम, प्रवीण मिंज और भीमसेन राम।
कांसाबेल जनपद से नवीन सिंह चौहान, पूनम कुमार सिंह, अजय कुमार पैंकरा और गौरी नंदन पैंकरा। बगीचा जनपद से निर्मल कुमार भगत और दीपक कुमार पैंकरा। दुलदुला जनपद से गजानंद सिंह, शैलेन्द्र नेताम, सुनील राम, रामनंदन राम, राजेश राम, रोमित लकड़ा और जशपुर जनपद से परमेश्वर राम का चयन हुआ है।

अधिक बिज़नेस की खबरें