बजट (Budget) 2019: फिर आई मोदी सरकार तो 5 लाख तक की इनकम होगी टैक्स फ्री'
file photo


5 लाख तक तक कमाई वालों को टैक्स से पूरी तरह छूट दे दी गई है. इससे पहले अभी तक किसी भी अंतरिम बजट में टैक्स स्लैब में बदलाव नहीं किया गया था. इससे पहले 2.5 लाख तक तक कोई टैक्स नहीं  था. 6.5 लाख तक कमाई वालों को भी इन्वेस्टमेंट करने पर किसी तरह का टैक्स नहीं देना होगा अगर प्रोविडेंट फंड जैसी योजनाओं में इन्वेस्ट किया गया है. एजुकेशन लोन, होम लोन, मेडिकल इंश्योरेंस के लिए भी किसी तरह का टैक्स नहीं चुकाना होगा. 3 करोड़ मिडिल क्लास टैक्स पेयर को होगा फायदा.आपको बता दें कि टैक्स छूट में बदलाव एक वादा है. सरकार दोबारा बनने पर ही इसका फायदा मिलेगा. जुलाई में आने वाले अनुपूरक में बजट में इसे पास कराया जाएगा.

अभी ये टैक्स प्रावधान
>> टैक्सेबल इनकम स्लैब- इनकम टैक्स रेट और सेस
>> 2.5 लाख रुपए तक- कोई इनकम टैक्स नहीं
>> 2,50,001 से 5,00,000 रुपए तक की आय वालों को 5 फीसदी टैक्स ( कुल आय में से2.5 लाख घटा कर) + 4 फीसदी सेस देना होता है.
>> 5,00,001 से 10,00,001 रुपए तक की आय वालों को 12,500 रुपए + 20 फीसदी (कुल आय में से 5 लाख घटाकर) + 4 फीसदी सेस देना होता है.
>> 10 लाख रुपए से ज्यादा की आय वालों को 1,12,500 रुपए + 30 फीसदी ( कुल आय से 10 लाख रुपए घटाकर) + 4 फीसदी सेस देना होता है.

60 साल से 80 साल के नागरिकों के लिए (सीनियर सिटीजन)
>> टैक्सेबल इनकम स्लैब- इनकम टैक्स रेट और सेस
>> 3 लाख रुपए तक कोई इनकम टैक्स और सेस नहीं देना होता है.
>> 3,00,001 से 5 लाख रुपए तक की आय वालों को 5 फीसदी (कुल आय में से 3 लाख घटाकर) + 4 फीसदी सेस देना होता है.
>> 5,00,001 रुपए से 10 लाख रुपए तक की आय वालों को 10,000 रुपए + 20 फीसदी (कुल आय में से 5 लाख घटाकर) + 4 फीसदी सेस देना होता है.
>>10 लाख रुपए से ज्यादा की आय वालों को 1,10,000 रुपए + 30 फीसदी (कुल आय में से 10 ला घटाकर) + 4 फीसदी सेस देना होता है.

अधिक बिज़नेस की खबरें