बैंक आफ इंडिया अपनी ग्रामीण शाखाओं से गोद लेगी  5-5 बेटियां
बैंक इन बेटियों को पढ़ने के लिए 1200 रुपये की राशि इनके खाते में देगी।


पटना :  ग्राहक, हेल्थ चेकअप और बेटी के लिए जागरुक बैंक आफ इंडिया ने कुछ कदम उठाये हैं । बैंक ने अपने 114वें स्थापना दिवस पर बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत ग्रामीण शाखाओं से 5-5 बेटियों को गोद लेने का निर्णय लिया है। बैंक इन बेटियों को पढ़ने के लिए 1200 रुपये की राशि इनके खाते में देगी। बैंक ने ग्राहक मिलन समारोह के माध्यम से विभिन्न उत्पादों की जानकारी ग्राहकों को दी और श्रेष्ठ ग्राहक सेवा का आश्वासन दिया। 

बैंक आफ इंडिया के पटना आंचलिक प्रबंधक अनिल कुमार ने यहां बताया कि बैंक अपने ग्राहकों को सर्वोपरि रखता है। बैंक का यही लक्ष्य है कि प्रत्येक व्यक्ति बैंकिंग से जुड़े, बैंकिंग सुविधाओं का लाभ ले पाये और अपने लिए एक सबल, आर्थिक रूप से मजबूत एवं उज्ज्वल   भविष्य बनाये। इसलिए बैंक ने अपना स्लोगन भी रखा है '' रिश्तों की जमापूंजी'' अर्थात हम बैंकिग के साथ रिश्ते भी निभाते हैं और सुख-दु:ख में ग्राहक के साथ खड़े रहते हैं । 

बैंक ग्राहकों से भी सुझाव मांगता  है जिससे बैंक अपनी सेवा और बेहतर कर सके। उन्होंने कहा कि बैंक की सेवा काफी अच्छी है लेकिन कुछ जगहों पर और अच्छा करने के सुझाव दिये गये हैं । उन्होंने बताया कि समय-समय पर शिविर लगाकर बैंक के अधिकारी, कर्मचारी सहित ग्राहकों का हेल्थ चेकअप कराया जाता है। 

अधिक बिज़नेस की खबरें