अब आपके मोबाइल पर 30 सेकेंड और लैंडलाइन पर 60 सेकेंड बजेगी घंटी
दूरसंचार कंपनियों ने पहले ही अपना खर्च घटाने के लिए इनकमिंग कॉल का रिंग टाइम घटा दिया था.


नई दिल्ली : अब मोबाइल फोन पर आने वाली कॉल की घंटी अधिकतम 30 सेंकेंड और लैंडलाइन पर अधिकतम 60 सेकेंड तक बजेगी. यह फैसला दूरसंचार नियामक ने लिया है. ट्राई ने द स्‍टैंडर्ड्स ऑफ क्‍वालिटी ऑफ सर्विस ऑफ बेसिक टेलीफोन सर्विस (वायरलाइन) और सेलुलर मोबाइल टेलीफोन सर्विस (सेवंथ एमेंडमेंट) रेगुलेशन 2019 जारी कर दिया है.

ट्राई ने बेसिक टेलीफोन सर्विस और मोबाइल टेलीफोन सर्विस के लिए सर्विस की गुणवत्ता नियमों में सुधार करते हुए कहा कि अगर कोई इनकमिंग कॉल को काटा या उठाया न जाए, तो मोबाइल पर घंटी अधिकतम 30 सेकेंड और बेसिक टेलीफोन (लैंडलाइन) पर 60 सेकेंड बजेगी.

खर्च घटाने के लिए घटाया था समय
हालांकि, दूरसंचार कंपनियों ने पहले ही अपना खर्च घटाने के लिए इनकमिंग कॉल का रिंग टाइम घटा दिया था. ऐसा दूसरे नेटवर्क पर कॉल करने पर होता था. लेकिन, अब अगर आप के कस्‍टमर हैं और या दूसरे किसी नेटवर्क पर कॉल करेंगे तो रिंग 30 सेकंड बजेगी.

वोडाफोन ने 25 सेकेंड किया समय
आपको बता दें कि एयरटेल और वोडाफोन आइडिया ने अपने नेटवर्क से बाहर जाने वाली कॉल पर रिंग टोन का समय घटाकर 25 सेकंड कर दिया था, जो आमतौर पर 40 से 45 सेकंड होता था. इसके पीछे मकसद कॉल जुड़े रहने के समय के मुताबिक उस पर लगने वाले इंटरकनेक्ट उपयोग शुल्क की लागत घटाना है. भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण ने  मामले में जबरदस्‍त कम्‍पीटीशन में उलझीं दूरसंचार कंपनियों से किसी समाधान पर पहुंचने के लिए कहा था. उनसे बातचीत के बाद ट्राई ने निर्देश जारी किए हैं.

क्‍या है IUC
IUC किसी एक नेटवर्क को दूसरे नेटवर्क पर दी जाने वाली सेवाओं पर दिया जाता है. इसमें जिस नेटवर्क से कॉल की जाती है वह कॉल पहुंचने वाले नेटवर्क को यह शुल्क अदा करता है. अभी इसकी दर 6 पैसा प्रति मिनट है. एयरटेल ने ट्राई को इसके बारे में बता दिया है. वोडाफोन आइडिया ने भी चुनिंदा परिक्षेत्रों में फोन की घंटी बजने की अवधि घटाने का निर्णय किया है.

अधिक बिज़नेस की खबरें