गुप्त हथियार का इस्तेमाल कर रहा है ऊबर
ऊबर ने कहा, यह प्रोग्राम उन फर्जी यूजर्स के राइड रिक्वेस्ट्स को खारिज कर देता है जो हमारी सवा शर्तों का उल्लंघन करते हैं।


नई दिल्ली : ऊबर उन नियामकीय प्राधिकरणों को ठेंगा दिखाने के लिए गुप्त हथियार का इस्तेमाल करने लगा है जो पूरी दुनिया के विभिन्न शहरों में उसकी सेवाओं पर आंशिक या पूर्ण पाबंदी लगाने की कोशिश कर रहे हैं। ऊबर 'ग्रेबॉल' नाम का एक फीचर यूज कर रहा है। यह ऊबर कैब में बुक करने वाले रेग्युलटरों की पहचान कर लेता है जो यह सबूत जुटाने की कोशिश करते हैं कि क्या ऊबर स्थानीय कानूनों को तोड़ रहा है।

अपनी गैर-कानूनी गतिविधियों को पकड़ने के प्रयासों पर पानी फेरने के लिए ऊबर ने अपने ऐप का एक फर्जी वर्जन तैयार किया है जो यह बता देता है कि अंडरकवर रेग्युलेटर्स कार बुक कर रहे हैं और फिर उनकी राइड कैंसल हो जाती है। कंपनी अंडरकवर एजेंट्स की पहचान करने के लिए अपने सही ऐप से जुटाए आंकड़ों को खंगालती है। इसकी जानकारी ऊबर के चार मौजूदा और पूर्व कर्मचारियों ने दी।

हालांकि, ऊबर ने भी मान लिया है कि उसने ग्रेबॉल का इस्तेमाल किया है। लेकिन, उसका कहना है कि उसने उसके विरोधियों के साथ मिलकर ऊबर ड्राइवरों को जाल में फांसने के काम में जुटे रेग्युलेटरों के खिलाफ ही ग्रेबॉल इस्तेमाल किया। ग्रेबॉल सेवा की शर्तों का उल्लंघन (VTOS) नाम के एक विस्तृत प्रोग्राम का एक हिस्सा है जिसे ऊबर अपनी सेवा के संरक्षण के लिए डिवेलप कर रहा है।

ऊबर ने कहा, 'यह प्रोग्राम उन फर्जी यूजर्स के राइड रिक्वेस्ट्स को खारिज कर देता है जो हमारी सवा शर्तों का उल्लंघन करते हैं। वह ऐसे लोग हो सकते हैं जो हमारे ड्राइवरों को शारीरिक नुकसान पहुंचाने का इरादा रखते हों, हमारे प्रतिद्वंद्वी हो सकते हैं जो हमारी गतिविधियां बाधित करना चाहते हों या वैसे विरोधी हो सकते हैं जो हमारे ड्राइवरों का फांसने के लिए अधिकारियों से मिलकर गुप्त स्टिंग करवाते हों।'

न्यू यॉर्क टाइम्स ने खबर दी कि ऊबर ने बॉस्टन, पैरिस और लास वेगस जैसे शहरों के साथ-साथ ऑस्ट्रेलिया, इटली और दक्षिण कोरिया जैसे देशों में रेग्युलेटरों के खिलाफ अपने फर्जी ऐप का इस्तेमाल किया। 60 अरब डॉलर (करीब 4 हजार अरब रुपये) की कंपनी ऊबर नियमों के उल्लंघन के आरोप लगते रहे हैं। उसे पैसे बचाने के लिए अपने ड्राइवरों को स्वतंत्र ठेकेदारों के रूप में पेश करने के आरोप में मुकदमे झेलने पड़ रहे हैं। कंपनी पर टेस्टिंग पर चल रही ओटॉनमस कारों के लिए टेक्नॉलजी चुराने के आरोप में भी मुकदमा हुआ है

अधिक बिज़नेस की खबरें