32 साल में 1 लाख रुपये बन गए 1400 करोड़ रुपये!
साल 1985 में किया गया 1 लाख रुपये का निवेश आज की तारीख में 1400 करोड़ मूल्य का है.


नई दिल्ली : साल 1985 में किया गया 1 लाख रुपये का निवेश आज की तारीख में 1400 करोड़ मूल्य का है. यह दिखाता है कि कैसे कोटक महिंद्रा ग्रुप ने पिछले तीन दशक में तरक्की के आयाम छुए. आज कोटक महिंद्रा ग्रुप भारत के सबसे सफल वित्तीय सेवा प्रदाता समूहों में से एक है. हाल ही में एक स्टेटमेंट में कोटक महिंद्रा ग्रुप के एग्जीक्यूटिव वाइस चेयरपर्सन और मैनेजिंग डायरेक्टर उदय कोटक ने कहा था- 1985 में कोटक ग्रुप में की गई 1 लाख रुपये की इनवेस्टमेंट आज की तारीख में 1400 करोड़ रुपये के मूल्य की है. उन्होंने यह बात नई सेविंग स्कीम '811' के लॉन्च के मौके पर कही.

1985 में कोटक महिंद्रा ग्रुप का गठन कोटक कैपिटल मैनेजमेंट फाइनेंस लिमिटेड के तौर पर हुआ. यह कंपनी कोटक एंड कंपनी, सिडनी पिंटो और उदय कोटक द्वारा प्रमोट की जा रही थी.  कोटक ग्रुप को शुरुआत में बैक कर रहे थे उद्योगपति आनंद महिंद्रा. हरीश महिंद्रा और आनंद महिंद्रा ने 1986 में इसमें हिस्सा खरीदा. 2003 में कोटक महिंद्रा फाइनेंस को कर्मशल बैंक में कन्वर्ट कर दिया गया.

आईएनजी व्यास बैंक का कोटक महिंद्रा बैंक में विलय हो गया जोकि 1 अप्रैल 2015 से लागू हो गया. 31 दिसंबर 2016 को कोटक महिंद्रा बैंक की देश में 1350 शाखाएं थीं. बोर्ड ने पिछले ही महीने प्रमोटर्स ने अपने 3.3 फीसदी शेयरों को बेचकर 5300 करोड़ रुपये उगाहे.

जब आनंद महिंद्रा ने ट्वीट करके उदय कोटक की तारीफ की तब उन्होंने जवाब में कहा, तुम मेरे दोस्त हो, मेंटॉर हो और मार्गदर्शक हो.कोटक महिंद्रा बैंक ने पिछले दिनों सेविंग अकाउंट खोलने के लिए एक नई स्कीम 811 लॉन्च की है. इस स्कीम के अंतर्गत कोई भी व्यक्ति पैन कार्ड और आधार कार्ड के जरिए कहीं से भी अपना खाता डिजिटली खोल सकता है. 811 स्कीम के अंतर्गत कोई भी व्यक्ति जीरो बैंलेंस पर अपना खाता खुलवा सकता है.

इस खाते को पैन कार्ड और आधार कार्ड के जरिए मोबाइल ऐप के  माध्यम से कहीं से भी खुलवाया जा सकता है. 811 पीएम मोदी के 8 नवंबर 2016 के नोटबंदी के ऐलान से प्रेरित बताया जा रहा है. खाते के बैलेंस के आधार पर खाताधारकों को 6 फीसद की दर से ब्याज दिया जाएगा.

अधिक बिज़नेस की खबरें