टिकट कैंसलेशन से रेलवे को 1,400 करोड़ रुपये की कमाई
पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 2016-17 में टिकट कैंसलेशन से होने वाली आय में 25 फीसदी वृद्धि हुई है।


नई दिल्ली : भारतीय रेलवे को 2016-17 में टिकट कैंसलेशन से 1,400 करोड़ रुपये की कमाई हुई है। सरकार के मुताबिक यह पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 25 फीसदी अधिक है। आय में वृद्धि के पीछे बड़ी वजह नवंबर 2015 में कैंसलेशन चार्ज को दोगुना किया जाना है।

रेलवे राज्य मंत्री राजेन गोहेन ने राज्यसभा में एक लिखित जवाब में बताया, 'पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 2016-17 में टिकट कैंसलेशन से होने वाली आय में 25 फीसदी वृद्धि हुई है।' टिकट कैंसल कराने पर रेलवे पैसेंजर्स (कैंसलेशन ऑफ टिकट ऐंड फेयर रिफंड) रूल्स 2015 के तहत शुल्क वसूल किया जाता है। 

नवंबर 2015 से लागू नए नियम के मुताबिक, एसी-3 कोच के कन्फर्म टिकट को ट्रेन छूटने के समय से 48 घंटे पहले कैंसल कराने पर 180 रुपये चार्ज किया जाता है जोकि पहले 90 रुपये था। इसी तरह एसी-2 टियर के लिए यह शुल्क 100 रुपये से बढ़ाकर 200 रुपये कर दिया गया था। स्लीपर क्लास के कन्फर्म टिकट का कैंसलेशन चार्ज को भी दोगुना कर 120 रुपये कर दिया गया।

 



अधिक बिज़नेस की खबरें