जानिए क्या इस अक्षय तृतीया आपको खरीदना चाहिए सोना? ​
10 से 20 साल पहले अक्षय तृतीया के दिन खरीदा गया सोना अब तक दोहरे अंकों में रिटर्न दे चुका है।


मुंबई : 18 अप्रैल को अक्षय तृतीया है। 10 से 20 साल पहले अक्षय तृतीया के दिन खरीदा गया सोना अब तक दोहरे अंकों में रिटर्न दे चुका है। यह अलग बात है कि पिछले कुछ वर्षों में सोने पर रिटर्न में थोड़ी गिरावट आई है और लोगों को लगने लगा है कि महंगाई से पार पाने में सोना बहुत कारगर नहीं रहा है। तो क्या इस बार अक्षय तृतीया पर सोना नहीं खरीदना चाहिए? ताजा वैश्विक, आर्थिक हालात तो ऐसा नहीं बताते। जिस तरह कच्चे तेल की कीमतें बढ़ रही हैं, अमेरिका-चीन के खिलाफ ट्रेड वॉर जारी है और सीरिया पर रसायनिक हमलों के बाद अमेरिका एवं सहयोगी देशों की प्रतिक्रिया से जैसी परिस्थितियां पैदा हुई हैं, उससे तो यही लगता है कि सोने की खरीदारी में ही होशियारी है। इन्हीं हालातों के मद्देनजर मार्केट एक्सपर्ट्स भी इस अक्षय तृतीया सोने की बिक्री में वृद्धि का अनुमान जता रहे हैं।

एक्सपर्ट्स इन परिस्थितियों के अलावा सोने की मांग में वृद्धि के अनुमान की वजह बाजार में सकारात्मक रुख की वापसी, कीमतों में स्थिरता और शादी के मौसम को मानते हैं। ऑल इंडिया जेम ऐंड जूलरी डोमेस्टिक काउंसिल (जीपीसी) के चेयरमैन नितिन खंडेलवाल ने बताया, 'इस साल चीजें पॉजिटिव दिख रही हैं और गोल्ड की कीमत भी स्थिर है। इस समय 10 ग्राम गोल्ड का दाम 30,820 रुपये के करीब है। शादी का सीजन होने से भी जूलरी की खरीदारी बढ़ी है।'

उन्होंने कहा, 'हम पिछले साल के मुकाबले इस बार अक्षय तृतीया पर बिक्री में 15-20 प्रतिशत बढ़ोतरी की उम्मीद कर रहे हैं।' खंडेलवाल का कहना है कि गोल्ड और खासतौर पर मौजूदा चलन में जोर पकड़ रहे और शादी-ब्याह के आभूषणों की मांग हीरे के आभूषणों के मुकाबले ज्यादा रहेगी। उन्होंने कहा, 'हम हाई और नीश जूलरी की डिमांड में सुस्ती भी देख रहे हैं।' अक्षय तृतीया सोने की खरीदारी के लिए शुभ दिन माना जाता है।

वहीं, इंडियन बुलियन ऐंड जूलर्स असोसिएशन (आईबीजेए) के वाइस प्रेजिडेंट और पी एन गाडगिल जूलर्स के चेयरमैन और एमडी सौरभ गाडगिल ने बताया कि अनुमानों में आभूषणों की बिक्री बढ़ने के संकेत दिख रहे हैं और बाजार में भी उथल-पुथल थम गई है। उन्होंने कहा, 'नीरव मोदी स्कैम के बाद मार्केट फिर से तेजी पकड़ रहा है। पिछले साल मॉनसून भी अच्छा था, लेकिन डिमांड नहीं थी। इसलिए पिछले साल के मुकाबले इस बार अक्षय तृतीया पर डिमांड बढ़ने की संभावना है।' 

उन्होंने कहा कि पिछले साल की तुलना में अक्षय तृतीया पर बिक्री 5-10 प्रतिशत अधिक रह सकती है। इस साल शादियों के मकसद से खरीदे जाने वाले आभूषणों के साथ-साथ सोने-चांदी के सिक्के और कम रकम के आइटम खूब पसंद किए जाएंगे। गाडगिल ने कहा, 'वेडिंग जूलरी के लिए बुकिंग अच्छी दिख रही है। इनकी डिलीवरी अक्षय तृतीया के दिन होगी।' 

कल्याण जूलर्स के चेयरमैन और एमडी टी एस कल्याणरमन ने कहा, 'इस साल अक्षय तृतीया पर हम ग्राहकों के फिर से गोल्ड की तरफ लौटने की उम्मीद कर रहे हैं।' उन्होंने कहा कि बिजनस असंगठित क्षेत्र से संगठित क्षेत्र की तरफ शिफ्ट हो रहा है। इससे कल्याण जूलर्स जैसी कंपनियों को फायदा होगा। 

WHP जूलर्स के डायरेक्टर आदित्य पीठे का कहना है कि हमें अक्षय तृतीया पर गोल्ड की बिक्री में अच्छी वृद्धि की उम्मीद है। इस बार पिछले साल के मुकाबले बिक्री 15-20 प्रतिशत बढ़ने की संभावना है। उन्होंने कहा, 'जिस तरह से इस हफ्ते में गोल्ड की बिक्री बढ़ी थी, उससे लगता है कि इस कैटिगरी में ग्राहकों का भरोसा फिर से बहाल होगा। यह एक ऐसा सीजन भी है, जिसमें ग्राहक गोल्ड जूलरी की ज्यादा खरीदारी करते हैं। यह भी हमारी बिक्री को बढ़ाने में मदद करेगा।' 

अधिक धर्म कर्म की खबरें