शिव का प्रिय मास सावन शुरू, 19 साल बाद बना दुर्लभ संयोग
File Photo


देवों के देव महादेव कहे जाने वाले भगवान शिव का प्रिय महीना सावन शुरू हो चुका है. पूरे महीने शिवालयों में भक्तों का सैलाब रहता है. इस महीने में सोमवार के व्रत का खास महत्व है. माना जाता है इससे जीवन में सुख-समृद्धि बढ़ती है. मान्यता है विवाहित औरतों को इस महीने में सोमवार व्रत रखने पर सौभाग्य वरदान मिलता है.

इस साल सावन महीने की शुरुआत 27 जुलाई से हो रही है, लेकिन इसे उदया तिथि यानी 28 जुलाई से मानी जाएगी. इस साल का सावन बेहद खास होने वाला है, क्योंकि 19 साल बाद सावन पूरे 30 दिन तक चलेगा. दरअसल सावन के 30 दिनों का होने के पीछे अधिकमास है. 28 अगस्त को सावन का आखिरी दिन होगा, इस दिन रक्षाबंधन का त्योहार है.

इस महीने के पहले सोमवार से 16 सोमवार व्रत की शुरुआत भी की जाती है. इस महीने में मंगलवार का व्रत भगवान शिव की पत्नी देवी पार्वती के लिए किया जाता है. इसे मंगला गौरी व्रत कहा जाता है.

इस साल सावन में 4 सोमवार हैं. इन तिथियों में भगवान शंकर की पूजा-अर्चना करना धार्मिक दृष्टि से बहुत फलदायी माना गया है. सावन के चारों सोमवार में भगवान शंकर की पूजा-अर्चना करना धार्मिक दृष्टि से बहुत फलदायी माना गया है. शास्त्रों में भी सोमवार को भगवान शिव की पूजा-आराधना के लिए विशेष विधियों की व्याख्या की गई है.

ये हैं इस सप्ताह के व्रत एवं त्योहार-

27 जुलाई (शुक्रवार)- सावन का महीना 28 जुलाई से शरू. श्रावण मास शुरू, पहला दिन.

28 जुलाई 2018: उदया तिथि में सावन का पहला दिन

29 जुलाई 2018: सावन का पहला सोमवार व्रत

30 अगस्त 2018: सावन सोमवार व्रत

11 अगस्त 2018: हरियाली अमावस्या

13 अगस्त 2018: सावन सोमवार व्रत और हरियाली तीज

20 अगस्त 2018: सावन सोमवार व्रत

26 अगस्त 2018: सावन माह का अंतिम दिन

अधिक धर्म कर्म की खबरें