पढ़े हरी इलायची के कमाल के गुण
हरी इलायची


घर में आम तौर पर ऐसी कई सारी चीजें होती हैं जिन्हें हम रोजना मसालों के रूप में उपयोग करते हैं, इलायची को जडी बूटियों और औषधियों में सबसे श्रेष्ठ माना गया है, उसी तरह इलायची को मसालों में सर्वोपरि माना जाता है। इलायची सुंगधित होने के कारण इसका इस्तेमाल मुख शुद्धि के रूप में किया जाता है। त्यौहारों पर मीठा बनाने के लिए मसालों तथा औषधियों में भी इसका अधिक उपयोग होता है। तो आइए, जानते हैं इलायची के औषधीय गुणों के बारे में...
दिखने में छोटी सी इलायची सेहत के लिए काफी लाभकारी है। भोजन में इसके प्रयोग से आप कई स्वास्थ्य समस्याओं से निजात पा सकते हैं। 

इलायची दाना, पीपरामूल और पटोलपत्र सम भाग भाग में लेकर चूर्ण बनाएं। 2-4 ग्राम पाउडर घी के साथ सुबह शाम चाटने से कफजन्य हृदय रोग से राहत मिलती है।

दूध या अन्य खाद्य पदाथों के साथ इलायची का सेवन करेन से मुख शुद्धि होती है। मुख में इलायची रखकर चूसने से भी मुख की दुर्गध से मुक्ति मिलती है।

आधा-आधा ग्राम इलायची और सोंठ के पाउडर में 1 ग्राम शहद मिलाकर चाटने से अथवा इलायची के तेल 4-5 बूंदें शक्कर के साथ लेने से कफजन्य खांसी दूर हो जाती है।

इलायची दानों का पाउडर और शक्कर सम भाग में लेकर उसमें थोडा एरंडी का तेल मिलाकर 5 ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन सुबह सेवन करने से आंखों को ठंडक पहुंचती है और आंखों की ज्योती बढती है।


अधिक सेहत/एजुकेशन की खबरें