घर के मुख्य द्वार पर नहीं होनी चाहिए बेल, हो सकता है ऐसा
घर के मुख्य द्वार पर नहीं होनी चाहिए बेल, हो सकता है ऐसा


अक्सर वास्तु में पेड-पौधे लगाने के नियम बताए जाते हैं लेकिन कुछ वृक्षबेल भी ऐसी होती हैं, जिनका वास्तु‍ सम्म्त स्थान न हो तो वे भी जातक को मुश्किल में डाल सकती हैं।

वास्तु के अनुसार घर के मुख्य द्वार पर बेल नहीं चढानी चाहिए। हममें से ज्यादातर लोग यह गलती करते हैं। 
ध्यान रहे कि घर के मध्य में कोई बडा वृक्ष नहीं लगाना चाहिए। इससे दुर्भाग्य में बढोतरी होती है। यह भी ध्यान रहे कि पूर्व व उतर दिशा में छोटे व हल्के पौधे होने चाहिए।
वास्तु के अनुसार घर में लगाए गए वृक्षों की कुल संखया सम होनी चाहिए। 
कुछ लोग मनीप्लांट की बेल को घर के बाहर भी रखे देते हैं लेकिन वास्तु के अनुसार घर के अंदर लगाना चाहिए क्योंकि यह भाग्यवर्धक होती हैं। 
ध्यान रहे कि बडे़ व घने वृक्ष हमेशा दक्षिण व पश्चिम दिशा में ही लगाने चाहिए। पत्थरों के बुतों से बना उपवन भवन के र्नैत्य कोण में ही होना चाहिए। 
भवन के द्वार के बिल्कुल सामने वृक्ष नहीं लगाना चाहिए। इससे द्वार वेध बनता है। 
बड व पीपल के वृक्ष पवित्र माने जाते हैं इसलिये इन्हें मंदिर आदि के आसपास लगाना चाहिए।
गुलाब को छोड़कर कोई भी कांटेदार पौधा घर में नहीं लगाना चाहिये अन्यथा शत्रु परेशान कर सकते हैं। दूधिया पौधों को घर में नहीं लगाना चाहिए क्योंकि ये भवनवासियों के स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं तथा धन का नाश करते हैं।
नींबू और घरोंदा के वृक्षों को भी घर या फैक्टरी में नहीं लगवाना चाहिए। यदि नींबू के वृक्ष को नहीं हटा सकते तो उसके आस पास तीन तुलसी के पौधे लगा देने चाहिए।

अधिक सेहत/एजुकेशन की खबरें