प्रेग्नेंसी में सिगरेट-शराब पीने से बच्चे का चेहरा हो सकता है खराब
प्रेग्नेंसी में सिगरेट-शराब पीने से बच्चे की सेहत पर पड़ता है बुरा असर


नई दिल्ली : प्रेग्नेंसी के दौरान सिगरेट या शराब पीने पर पेट में पल रहे बच्चे पर असर होगा। बच्चे के चेहरे पर विकृति आ सकती है। एम्स की नई स्टडी में यह बात सामने आई है। एम्स की स्टडी के अनुसार, प्रेग्नेंसी के शुरुआती कुछ हफ्ते में स्मोकिंग, शराब पीने, चूल्हे से निकलने वाले धुएं के बीच सांस लेने या ज्यादा दवाएं लेने और न्यूट्रिशियन की कमी होने पर नवजात के चेहरे में जन्मजात विकृतियां हो सकती हैं। 

चेहरे में विकृति के तौर पर बच्चे के चेहरे के होंठ कटे हो सकते हैं या तालू में विकृति हो सकती है। कटे हुए होंठों से बच्चे को बोलने और खाना चबाने में दिक्कत आती है। इससे दांत भी बराबर नहीं होता है। एम्स के डेंटल विभाग ने 2010 में इस अध्ययन की शुरुआत की जिसे तीन फेज में पूरा किया गया। प्री-पायलट, पायलट और मल्टी सेंट्रिक फेज में स्टडी पूरी की गई। यह अभी पायलट स्टडी है, जो दिल्ली के एम्स, सफदरजंग अस्पताल और गुड़गांव के मेदांता मेडिसिटी में हुआ। 

इस बारे में डॉक्टर ओ. पी. खरबंदा का कहना है कि मकसद यह था कि मरीजों के दस्तावेज इकट्ठा करने की प्रक्रिया में समानता लाई जाए। उन्होंने कहा कि इससे पता चला कि इस विकृति से जूझ रहे मरीजों को इलाज की तत्काल जरूरत होती है। इसके लिए गुणवत्ता पूर्ण देखभाल करने में सुधार के लिए रणनीति बनाने की जरूरत है। 

अधिक सेहत/एजुकेशन की खबरें