ख़ास बातचीत: दिल की बीमारियों से ऐसे सावधानी बरतने को कहते है डॉक्टर रचित
विनायक मेडीकेयर अस्पताल में नारायण हृदयालय की कार्डिएक ओपीडी की हुई शुरूआत


लखनऊ- कार्डिएक विज्ञान के क्षेत्र में दशकों से अपनी उत्कृष्टता के लिए प्रतिष्ठित चिकित्सा संस्थान नारायण हृदयालय देषभर में मरीजों की सेवा कर रहा है और अब इस संस्थान ने अपनी चिकित्सा सेवाओं का विस्तार उत्तर प्रदेश के लखनऊ में भी किया है। लखनऊ के बिजनौर रोड निकट सी0आर0पीएफ0 कैम्प स्थित विनायक मेडीकेयर अस्पताल में नारायण हृदयालय की कार्डिएक ओपीडी की शुरूआत की गई है। इस अवसर पर डाॅ0 मनीष चन्द्र सिंह (डायरेक्टर, विनायक मेडीकेयर), डाॅ प्रांजल सिंह (प्रषासनिक, डायरेक्टर), श्री राम करन सिंह (अध्यक्ष), श्रीमती मुंद्रिका सिंह (चेयरमैन) एवं श्रीमती तोषी सिंह (फाइनेंस डायरेक्टर) व नारायण हृदयालय से डाॅ0 रचित सक्सेना (एम0सी0एच0 सी0टी0वी0ए0 सर्जन), श्री सत्य प्रकाष एवं मोहम्मद शेखू उपस्थित रहे। 




खास बातचीत 

इस बातचीत के दौरान जब हमने डॉक्टर से उनकी पहली सर्जरी के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि 2010 पहली सर्जरी की थी. इस दौरान उन्हें कई बार चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी। बातचीत में उन्होंने काम उम्र में होने वाली दिल की बीमारियों का भी जिक्र किया। साथ ही उन्होंने इससे बचने के उपाय भी बताए।



 
क्या है मुख्य उद्देश्य

बिजनौर रोड स्थित विनायक मेडीकेयर अस्पताल में कार्डिएक ओपीडी के शुरू होने से न केवल लखनऊ के स्थानीय निवासी बल्कि आसपास के इलाकों के लोग भी कार्डियक ओपीडी में कार्डियक बीमारियों की गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा का लाभ उठा सकेंगे, यह जानकारी डाॅ0 मनीष चन्द्र सिंह (डायरेक्टर, विनायक मेडीकेयर) ने प्रेसवार्ता में दी।



डाॅ0 मनीष चन्द्र सिंह ने बताया कि, देष के लगभग हर चैथे व्यक्ति की मौत दिल और इससे संबंधित बीमारियों से होती है। इन बीमारियों के होने का सबसे महत्वपूर्ण कारण हमारी अस्वास्थ्यकर जीवन शैली है। हम मुख्य रूप से खराब आहार संबंधी आदतों, स्थूल जीवन शैली और रोजमर्रे के जीवन में तनाव तथा काम के अधिक बोझ के कारण इन बीमारियों के शिकार बन रहे हैं, यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि आधुनिक तकनीकों तथा सक्षम चिकित्सा व्यवस्था के बावजूद हमारे देश में काफी लोग मौत के शिकार बन रहे हैं, जिन कारणों का निवारण किया जा सकता है। यह आज और भी अधिक महत्वपूर्ण हो गया है क्योंकि ये बीमारियों युवाओं और युवा पीढ़ी को भी अपना शिकार बनाने लगी है। 

लखनऊ में ओपीडी सेवाओं की शुरूआत करने का मुख्य उद्देश्य उन लोगों को सर्वोत्तम सेवाएं प्रदान करना है जो उपचार के लिए दूर की यात्रा नहीं कर सकते हैं। नारायण हृदयालय के अत्यधिक अनुभवी और योग्यता प्राप्त डॉक्टरों ने पहले से ही संबंधित क्षेत्रों में उत्कृष्टता की मिशालें पेश की हैं और अब वे बेहतर स्वास्थ्य के लिए समाज की सेवा करने के लिए आगे आ रहे हैं।

लखनऊ के बिजनौर रोड स्थित विनायक मेडीकेयर अस्पताल सरोजनी नगर क्षेत्र का अकेला 200 बेड का सी0जी0एच0एस0, आयुष्मान एवं कैशलेस सेवा से स्वीकृत सुपर स्पेषलिटी अस्पताल है। जिसमें जाने माने डॉक्टर्स, आधुनिक उपकरणों और मेडिकल सुविधाओं से लैस एवं जटिल प्रक्रियाओं को करने में पूरी तरह सक्षम हैं।

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं)  

अधिक सेहत/एजुकेशन की खबरें