प्लास्टिक की बोतल में बच्चे को दूध पिलाना हो सकता है खतरनाक
कांसेप्ट फोटो


एक रिसर्च के दौरान ये पता चला है कि छोटे बच्चों को प्लास्टिक की बोतल में दूध देने हानिकारक हो सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक बोतल से दूध पीने वाला बच्चा रोजोना स्टिक के मिलियन सूक्ष्ण कणों को गटक रहे हैं।

वैज्ञानिक कहते हैं कि ये बोतलें अत्यंत महीन प्लास्टिक के कण को निकालती हैं, जो बच्चे के शरीर में पहुंच जाता है. शोधकर्ताओं का कहना है कि फीडर को 25 सेंटीग्रेड के तापमान पर रखने से 6 लाख प्रति लीटर प्लास्टिक के कण, जबकि 95 सेंटीग्रेड पर 5 करोड़ 50 लाख प्रति लीटर प्लास्टिक के कण निकलते हैं।

हर नवजात पहले 12 महीनों में रोजाना औसतन 10.60 लाख सूक्ष्म प्रोटेलिक प्लास्टिक निगलता है. उन्होंने कहा कि ऐसा दो कारणों से होता है. एक तो ये कि बोतल को कीटाणुरहित बना दिया जाता है और दूसरा कारण है गुनगुना दूध. ये दोनों मिलकर प्लास्टिक के सूक्ष्ण कणों को निकालने में मदद करते हैं.

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते है)

अधिक सेहत/एजुकेशन की खबरें