पायल पहनने के भी हैं कुछ फायदे
पायल पहनने के भी हैं कुछ फायदे


पायल महिलाओं के सोलह श्रृंगारों में से एक है। भारत में पायल पहनना बहुत पसंद किया जाता है। पायल पैरों की सुंदरता को बढ़ाती है और इसकी आवाज से पुरूष भी महिलाओं की ओर आकर्षित होते हैं। इसके पीछे बुजुर्ग कुछ शुभ-अशुभ के कारण मानते है लेकिन इसके अलावा पायल पहनने से महिलाओं को कई स्वास्थ्य से संबंधित लाभ भी मिलते है। 

1. शारीरिक तापमान रखे सही
पायल हमेशा चांदी की ही पहननी चाहिए। कुछ महिलाएं सोने की पायल पहनती है जो की शारीरिक स्वास्थ के लिए बिल्कुल भी सही नहीं है क्योंकि सोने की तासीर गर्म होती है। सोने की पायल शारीरिक गर्मी का संतुलन खराब करके रोग उत्पन्न कर सकती हैं। आयुर्वेद के अनुसार सिर ठंडा और पैर गर्म होने चाहिए इसलिए सिर पर सोना और पैरों में चांदी पहननी चाहिए। ऐसा करने से सिर की गर्म ऊर्जा पैरों में और पैरों की ठंडी ऊर्जा सिर में चली जाती है जिससे शरीर का तापमान संतुलन में रहता है।

2. पैरों की सुंदरता को बढ़ाए
पायल महिलाएं काफी समय से ही पहनती आ रही है। यह पैरों की सुंदरता को बढ़ाती है और इसकी छन-छन की आवाज से पुरुष भी महिलाओं की ओर आकर्षित होते है। इसी लिए पायल को महिलाओं के सोलह श्रृंगार में शामिल किया गया है।

3. स्वास्थ्य लाभ
पायल पहनने से पैर तो सुंदर दिखते है ही लेकिन साथ ही यह शरीर के लिए भी बहुत फायदेमंद है। पायल की छनक नेगेटिव ऊर्जा को दूर करती है। पायल पैरों से हमेशा रगड़ने के कारण इसके धातु तत्व शरीर के अंदर चले जाते है और हड्डियों को सोने चांदी जैसी मजबूती देते है।  

4. पुरुषों को सतर्क करना
पुराने समय में हर महिला को पायल पहनाई जाती थी इसलिए कि उनकी पायल की आवाज से घर के पुरुषों को पहले ही पता चल जाता था कि कोई महिला आ रही है और वो व्यवस्थित हो जाते थे। इस कारण पुराने जमाने में घर की महिलाएं पायल पहनती थीं लेकिन यह आज भी फैशन का हिस्सा बनी हुई है।

अधिक सेहत/एजुकेशन की खबरें