इंफेक्शन से बचना है, विटमिन सी का सेवन करें
मॉनसून की दस्तक के साथ ही बीमारियों के प्रकोप का खतरा भी बढ़ गया है।


नई दिल्ली : मॉनसून की दस्तक के साथ ही बीमारियों के प्रकोप का खतरा भी बढ़ गया है। डॉक्टरों ने खासकर बच्चों के लिए सलाह दी है कि उन्हें ज्यादा से ज्यादा विटमिन सी से भरपूर आहार खिलाना चाहिए ताकि इस मौसम में शरीर में संक्रमित कोशिकाओं यानी इंफेक्टेड सेल्स को खत्म करने में मदद मिल सके। विटमिन सी को प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए बेहतरीन माना जाता है। 

बेंगलुरू के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस (IISc) के हालिया अध्ययन में न्यूक्लियर प्रक्रिया का पता लगाया गया जिसमें पाया गया कि विटमिन सी माइकोबैक्टिरियम स्मेगमेटिस को खत्म करता है जो एक गैर-रोगजनक जीवाणु है। दिल्ली के सरोज सुपर स्पेशिऐलिटी हॉस्पिटल में इंटरनल मेडिसिन विभाग के प्रमुख एस के मुंधरा ने कहा, ''रोजाना कम से कम 500 मिलीग्राम विटमिन सी का सेवन करने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह प्रतिरक्षा में सुधार, कॉमन कोल्ड फ्लू और संक्रमण की गंभीरता और उसकी अवधि को कम करता है। लेकिन याद रखना चाहिए कि यह मात्रा रोजाना 1 हजार मिलीग्राम से अधिक न हो क्योंकि किसी भी चीज की अति हानिकारक होती है।'' 

मुंधरा ने कहा कि मॉनसून की शुरुआत से लेकर अब तक वह संक्रमण से ग्रस्त 200-250 मरीजों को देख चुके हैं। उन्होंने कहा कि अगर कोई व्यक्ति विटमिन सी से भरपूर आहार लेता रहे, तो उनका प्रतिरक्षा तंत्र अच्छे तरीके से काम करता है और इंफेक्टेड सेल्स को ढूंढकर उन्हें नष्ट करता है। एम्स के अधिकारियों के मुताबिक, हर साल मॉनसून में जनरल मेडिसिन ओपीडी में संक्रमण से ग्रस्त मरीजों की संख्या में 20-30 फीसदी तक का इजाफा होता है। तो वहीं शहर के गंगा राम अस्पताल में भी मॉनसून के दौरान 20-30 फीसदी मरीज त्वचा से संबंधित संक्रमण के आते हैं। 

साइट्रस फ्रूट्स जैसे- संतरा, मौसंबी, अंगूर, किवी, स्ट्रॉबरी, आंवला और अमरूद में विटमिन सी की भरपूर मात्रा पायी जाती है। इसके अलावा सब्जियों की बात करें तो बेल पेपर यानी लाल-पीली और हरी शिमला मिर्च, ब्रॉकली, टमाटर, गोभी और पालक में भी विटमिन सी प्रचूर मात्रा में पाया जाता है। लिहाजा मॉनसून के सीजन में किसी भी तरह के इंफेक्शन से बचने के लिए इन चीजों का सेवन करना चाहिए।

अधिक सेहत/एजुकेशन की खबरें