कोरियाई प्रायद्वीप में अमेरिका ने उड़ाए विध्वंसक विमान
उत्तर कोरिया ने अमेरिका पर परमाणु युद्ध का खतरा पैदा करने का आरोप लगाया है।


प्योंगयांग : दक्षिण कोरिया और जापान के साथ मिलकर कोरियाई प्रायद्वीप के पास अमेरिका के बमवर्षक विमानों की उड़ान से उत्तर कोरिया भड़क गया है। उसने अमेरिका के एयर फोर्स बी-1 बमवर्षक विमानों की उड़ान की आचोलना की है। उत्तर कोरिया ने इसे खुद को धमकी देनेवाला और किसी गैंगस्टर की तरह की करतूत बताया है। उत्तर कोरिया की सरकारी न्यूज एजेंसी KCNA ने इसे अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया की न्यूक्लियर स्ट्राइक ड्रिल बताया है जिसके निशाने पर उत्तर कोरिया है। 

KCNA ने कहा, 'गैंगस्टर की तरह अमेरिकी साम्राज्यवादी लगातार परमाणु हमले की सनकभरी धमकी दे रहे हैं और उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को किसी भी कीमत पर रोकने के लिए ब्लैकमेल कर रहे हैं।' उत्तर कोरिया ने अमेरिका पर परमाणु युद्ध का खतरा पैदा करने का आरोप लगाया है।

उत्तर कोरिया की सरकारी न्यूज एजेंसी ने कहा, 'वास्तविकता पूरी तरह स्पष्ट है कि गैंगस्टर जैसे अमेरिकी साम्राज्यवादी ही कोरियाई प्रायद्वीप में माहौल खराब कर रहे हैं और परमाणु युद्ध छेड़ना चाहते हैं।'

इससे पहले, अक्टूबर में भी अमेरिका ने इसी तरह का अभ्यास किया था। वह अमेरिका, दक्षिण कोरिया और जापान का एक साथ पहला संयुक्त अभियान भी था। 

उत्तर कोरिया ने सितंबर में दावा किया था कि उसने हाइड्रोजन बम का सफल परीक्षण किया है जिसे वह अमेरिकी जमीन तक मार करने में सक्षम इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल पर तैनात करने की योजना बना रहा है। हालांकि प्योंगयांग के पास अभी भी अमेरिका की मुख्य भूमि तक मार करने वाली मिसाइल नहीं है।

अभ्यास किसी मौजूदा घटना की प्रतिक्रिया नहीं: अमेरिका
इस बीच अमेरिका ने कहा है कि बमवर्षकों के साथ उनका अभ्यास किसी मौजूदा घटना के जवाब में नहीं किया गया है। बता दें कि क्षेत्रीय तनाव गहरा होने के बीच अमेरिका के बमवर्षकों ने गुरुवार को जापान और दक्षिण कोरिया के युद्धक विमानों के साथ दक्षिण कोरियाई क्षेत्र में अभ्यास किया। अमेरिका की वायुसेना ने यह जानकारी दी। 

यूएस पैसिफिक एयर फोर्स ने एक बयान में कहा कि 2 सुपरसोनिक बी-1 बी लांसर बमवर्षक गुरुवार को गुआम में एंडरसन वायुसेना अड्डे से उड़ान भरकर दक्षिण कोरिया के दक्षिण एवं जापान के पश्चिम तक पहुंचे, जहां जापान एयर सेल्फ-डिफेंस फोर्स के लड़ाकू विमान भी उनके साथ शामिल हुए।

बयान के अनुसार, लांसर्स इसके बाद कोरिया गणराज्य के लड़ाकू विमानों के साथ पीत सागर में कोरियाई क्षेत्र के ऊपर से गुजरे। बयान में यह भी कहा गया कि यह अभ्यास प्रशांत क्षेत्र में बमवर्षक की निरंतर उपस्थिति अभियान का हिस्सा था। बयान के अनुसार अभ्यास किसी मौजूदा घटना के जवाब में नहीं किया गया।

अधिक विदेश की खबरें