उ. कोरिया ने फिर जापान पर दागा मिसाइल, ट्रंप बोले- देख लेंगे
उत्तर कोरिया ने बुधवार को एक बार फिर से अपना सबसे शक्तिशाली बलिस्टिक मिसाइल लॉन्च किया है।


सोल  : 2 महीने की शांति के बाद उत्तर कोरिया ने बुधवार को एक बार फिर से अपना सबसे शक्तिशाली बलिस्टिक मिसाइल लॉन्च किया है। यह मिसाइल जापान के विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र (EEZ) में गिरा। इतना ही नहीं इस मिसाइल की जद में वॉशिंगटन और पूर्वी अमेरिका के समुद्री तट भी हैं। उत्तर कोरिया द्वारा मिसाइल दागे जाने पर अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप और रक्षा मंत्री जिम मैटिस ने कड़ा विरोध जताया है। इससे पहले उत्तर कोरिया ने 15 सितंबर को आखिरी मिसाइल टेस्ट किया था। इस परीक्षण के बाद एक बार फिर से अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच युद्ध की आशंका बढ़ गई है। 

मैटिस के मुताबिक प्योंगयांग ने जो अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल (ICBM) दागा है वह उसके अब तक के परीक्षणों में से सबसे लंबी दूरी तक जाने वाला मिसाइल है। मैटिस ने यह भी कहा कि उत्तर कोरिया ऐसा मिसाइल विकसित करने में जुटा हुआ है जो कि दुनिया के किसी भी हिस्से को निशाना बना सकता है। मिसाइल लॉन्च के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने ट्वीट किया कि वह इस स्थिति को देख लेंगे। जापानी पीएम शिंजो आबे ने मिसाइल परीक्षण को 'हिंसक कृत्य' बताया है और कहा है कि इसे कभी भी बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। आबे ने इस मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक भी बुलाई है। 

अमेरिका और दक्षिण कोरिया ने भी सुरक्षा परिषद की आपात बैठक बुलाने के लिए कहा है। खबर के मुताबिक भारतीय समयानुसार गुरुवार सुबह यह बैठक होगी। शिंजो आबे ने मीडिया से कहा कि हम प्योंगयांग पर ज्यादा से ज्यादा दबाव बनाएंगे। बता दें कि अमेरिका द्वारा उत्तर कोरिया पर लगाए नए प्रतिबंधों के कुछ दिनों बाद ही प्योंगयांग ने मिसाइल परीक्षण किया। ट्रंप ने मीडिया से बातचीत में कहा, 'उत्तर कोरिया के पास से एक मिसाइल लॉन्च किया गया है लेकिन मैं आपको बता दूं कि हम इसे देख लेंगे। मैंने जनरल जिम मैटिस से इस संबंध में लंबी चर्चा की है। इस स्थिति से हम निपट लेंगे।' 

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने स्थानीय समयानुसार 1 बजकर 17 मिनट पर उत्तर कोरिया द्वारा मिसाइल लॉन्च को ट्रैक किया। पेंटागन के प्रवक्ता कर्नल रॉब मैनिंग ने एक बयान में कहा कि शुरुआती जांच से संकेत मिले कि यह एक अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल था। रॉब ने बताया, 'यह मिसाइल उत्तर कोरिया के सेन नी से छोड़ा गया और करीब 1000 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद जापान के समुद्र में जा गिरा।' बता दें कि दक्षिण कोरिया और जापान ने एक-दो दिन पहले ही ऐसी खबरें छापी थी जिसमें उत्तर कोरिया द्वारा फिर से मिसाइल टेस्ट किए जाने की आशंका व्यक्त की गई थी। 

अधिक विदेश की खबरें