कट्टरपंथी जिहादियों को '5-स्टार' पुनर्वास केंद्र में भेजता है सऊदी अरब
देश के कट्टरपंथी जिहादियों से निपटने के लिए सऊदी अरब एक नई रणनीति के तहत काम कर रहा है।


रियाद : देश के कट्टरपंथी जिहादियों से निपटने के लिए सऊदी अरब एक नई रणनीति के तहत काम कर रहा है। कभी आतंक का खूनी खेल खेलने वालों को अब सुधारने के लिए 5-स्टार रिजॉर्ट वाली सुविधाएं दी जा रही हैं। इनडोर स्विमिंग पूल समेत कई आधुनिक सुविधाओं वाले सऊदी कॉम्प्लेक्स को उग्रवादियों के पुनर्वास केंद्र के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है। रियाद में जेल और आजादी के बीच के समय को गुजारने के लिए बने इस सुधार गृह का नाम मोहम्मद बिन नायफ काउंसलिंग ऐंड केयर सेंटर है। देश के जिहादियों के खिलाफ सऊदी की यह विवादास्पद रणनीति सुखिर्यों में है। 

एक तरफ जब दुनिया आतंकवाद से लड़ने के लिए ड्रोन हमले और यातना का सहारा ले रही है, तो यह सेंटर किसी प्रकार के दबाव के बजाए वैचारिक इलाज करने पर जोर दे रहा है। यहां का कामकाज मौलवी और मनोवैज्ञानिक देखते हैं। सेंटर का दावा है कि यहां सजा काट चुके जिहादियों को वापस उसी रास्ते पर जाने से रोकने पर काम किया जाता है। यहां के लोग इस पूरी प्रक्रिया को धार्मिक परामर्श और दिलोदिमाग से नफरत निकालने वाला बताते हैं। सेंटर के निदेशक याह्या अबू मघयद ने कहा, 'हमारा फोकस उनके विचारों, गलतफहमी, इस्लाम से भटकाव को सही दिशा देने पर है।' 

अपराधियों को आलीशान घरों में रखा जाता है, जहां बड़ी स्क्रीन वाली टीवी लगी है और खूबसूरत लॉन दिखाई देता है। ये सुख-सुविधाएं उन लोगों को दी जा रही हैं जो कभी अल कायदा और तालिबान जैसे आतंकी संगठनों के लिए काम करते थे। इन लोगों के लिए जिम, बैंक्विट हॉल को विशेष तौर पर डिजाइन किया गया है। इनके पति-पत्नी आएं तो उनके रहने के लिए भी अपार्टमेंट्स की बेहतर व्यवस्था की गई है।

अबू ने बताया कि सेंटर में रहने वाले लोगों को कैदी या बंदी नहीं बुलाया जाता है। हम उन्हें यह अहसास कराते हैं कि वे भी हमारी तरह सामान्य लोग हैं और अब भी उनके पास मौका है, जिससे वे वापस अपनी दुनिया (समाज) में लौट सकें। गौरतलब है कि सऊदी पर लंबे समय से वहाबी सुन्नी विचारधारा को पूरी दुनिया में फैलाने का आरोप लगाया जाता रहा है, लेकिन यह देश खुद भी घरेलू आतंकी हमलों से पीड़ित है। 

क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने कट्टरपंथी विचारधारा को छोड़ने की दिशा में कई कदम उठाए हैं। उन्होंने हाल ही में 41 देशों का सैन्य गठबंधन बनाया है जो इस्लामिक कट्टरपंथ के खिलाफ लड़ेगा। इनका संकल्प है कि पूरी पृथ्वी से आतंकवाद को खत्म किया जाएगा। लेकिन घरेलू कट्टरपंथ से निपटने के लिए सऊदी का यह पुनर्वास केंद्र उनकी रणनीति का एक मुख्य हिस्सा है। सेंटर का दावा है कि अब तक आतंकवाद से जुड़े अपराधों में दोषी ठहराए गए 3300 से ज्यादा लोगों को यहां सुधारा जा चुका है। इस सेंटर का सक्सेस रेट 86% है। 

अधिक विदेश की खबरें

WTO : अमेरिका को भारत की खरी खरी, हर हाल में निकालना होगा खाद्य सुरक्षा पर स्थायी समाधान..

विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) की अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस आयर्स में चल रही मंत्री स्तरीय वार्ता टूटने ......