पाक के खिलाफ और भी सख्त कदम उठा सकता है अमेरिका
अमेरिका के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान की मदद को फ्रीज करने के कदमों को और बढ़ाया जा सकता है।


वॉशिंगटन : पाकिस्तान की सैन्य मदद रोके जाने के बाद अमेरिका ने अब उसके पलटवार की स्थिति में नुकसान को कम से कम करने के प्रयास शुरू कर दिए हैं। अमेरिका के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान की मदद को फ्रीज करने के कदमों को और बढ़ाया जा सकता है। अफगानिस्तान में आतंकियों से जंग ले रही अमेरिकी और सहयोगी देशों की सेना के लिए पाकिस्तान गेटवे की तरह है। जमीन से घिरे हुए इस देश में जंग के लिए अमेरिका को पाकिस्तान की खास जरूरत है। अमेरिकी सेना यहां बीते 16 साल से संघर्ष कर रही है।

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय का कहना है कि पाकिस्तान की ओर से अब तक ऐसा कोई संकेत नहीं मिला है कि वह अफगानिस्तान में सैन्य आपूर्ति के लिए हवाई स्पेस या सड़कों को ब्लॉक कर देगा। अमेरिकी रक्षा मंत्री जिम मैटिस ने शुक्रवार को पाकिस्तान की ओर से ऐसी किसी कार्रवाई की चिंता को खारिज कर दिया। अमेरिका ने पाकिस्तान को दी जाने वाली 2 अरब डॉलर की सैन्य सहायता को बंद करना शुरू कर दिया है। 

इससे पहले नए साल के मौके पर राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा था कि पाकिस्तान ने बीते 15 सालों में अमेरिका को सिर्फ धोखा और छल ही दिया है। उन्होंने कहा था कि पाक ने अमेरिकी शासकों को मूर्ख बनाने का काम किया है। नाम उजागर न करने की शर्त पर ट्रंप प्रशासन के एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि वॉशिंगटन का मानना है कि मदद निलंबित करने से इस्लामाबाद को उसका संदेश मिल जाएगा। 

हालांकि अधिकारी ने यह भी कहा कि पाकिस्तान की मदद फ्रीज करना ही उस पर लगाम कसने का एकमात्र उपाय नहीं है। उस पर दबाव बनाने के लिए जरूरत पड़ने पर कुछ अलग कदम भी उठाए जा सकते हैं। अधिकारी ने कहा, 'आर्थिक सहायता के अलावा हम पाकिस्तान पर लगाम कसने के लिए कुछ अलग कदम उठाने पर भी विचार कर रहे हैं।' उन्होंने कहा कि हम पाकिस्तान की ओर से संभावित प्रतिक्रिया पर भी नजर बनाए हुए हैं। यह उन तरीकों पर विचार कर रहे हैं, जिससे पाकिस्तान की ओर से उठाए गए कदमों से निपटा जा सके और नुकसान को कम से कम किया जा सके। 

अधिक विदेश की खबरें

रूसी राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन, डोनाल्‍ड ट्रंप जैसे नेताओं को इंतजार क्‍यों करवाते हैं?..

फिनलैंड की खूबसूरत राजधानी हेलसिंकी में पिछले दिनों अमेरिकी राष्‍ट्रपति और रूसी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप की मुलाकात ......