अल नीनो के बगैर सबसे गर्म साल रहा 2017: नासा
2017 भी पृथ्वी के लिए सबसे गर्म सालों में एक रहा।


2017 भी पृथ्वी के लिए सबसे गर्म सालों में एक रहा। वैज्ञानिकों का दावा है कि 2016 के मुकाबले 2017 थोड़ा कम गर्म रहा, लेकिन यह भी चिंताजनक है। वैज्ञानिकों का कहना है कि 2016 अल नीनो वर्ष था, जबकि 2017 बगैर अल नीनो सबसे गर्म साल रहा। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने 2017 को 2016 के बाद दूसरा सबसे गर्म साल माना है। वहीं अमेरिका की ही नैशनल ऑशियनिक ऐंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन, जो इस विश्लेषण के लिए अन्य प्रक्रिया का इस्तेमाल करता है, ने 2017 को 2015 और 2016 के बाद तीसरा सबसे गर्म साल माना है। हालांकि तकनीकी तौर पर 2015 भी अल नीनो वाला नहीं था।

कुल मिलाकर, कार्बन डाइऑक्साइड और अन्य ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन से प्रेरित, 19वीं सदी के उत्तरार्ध से तापमान 1 डिग्री सेल्सियस से अधिक बढ़ा है। वैज्ञानिकों का मानना है कि जलवायु परिवर्तन के सबसे खराब परिणामों से बचने के लिए जरूरी है कि वैश्विक तापमा 2 डिग्री से ज्यादा न बढ़े। इस पूरे मामले का विश्लेषण करने वाले नासा ग्रुप के गोड्डार्ड इंस्टिट्यूट फॉर स्पेस स्टडीज के डायरेक्टर गैविन ए स्मिथ का कहना है कि सबसे गर्म साल को श्रंखलाबद्ध करना उतना महत्वपूर्ण नहीं है। जरूरी बात यह है कि तापमान जिस तरह साल-दर-साल बढ़ रहा है, वाले आने वाले समय में पूरी मानव जाति के लिए सबसे बड़ी समस्या भी बन सकता है।

वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि प्रकृति के साथ मनुष्यों की छेड़छाड़ ही धरती पर तापमान के इस तरह से बढ़ने का कारण है। इन दोनों सगंठनों द्वारा जारी आंकड़ों पर गौर करें तो 2017 अब तक का दूसरा या तीसरा सबसे गर्म साल रहा। वैज्ञानिकों ने करीब 167 साल के आंकड़ों को निकालकर यह रिपोर्ट तैयार की है। वैज्ञानिकों का कहना है कि 1998 में भी बढ़ रहे तापमान को लेकर चिंता जताई गई थी और इसके लिए अल नीनो को जिम्मेदार ठहराया गया था, लेकिन पिछला साल 1998 के मुकाबले भी काफी गरम रहा। नासा ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि अल नीनो अंटार्कटिका की हर साल 10 इंच बर्फ पिघल रही है। 

नासा के एक और वैज्ञानिक ने कहा कि सबसे गर्म वर्षों की रैंकिंग कोई खबर नहीं है। बड़ी बात यह है इसका ट्रेंड। आपको आगे की समस्याओं से निपटने के लिए इसका रूझान देखना होगा। वैज्ञानिकों का कहना है कि 1850 के बाद के 18 सबसे गर्म साल की एक सूची बनाई जाए तो इनमें 17 साल इसी सदी के होंगे। 

अधिक विदेश की खबरें

पाकिस्‍तान के 22वें प्रधानमंत्री बने इमरान खान, शपथ लेने के बाद मुस्‍कुराए..

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के प्रमुख इमरान खान पाकिस्‍तान के 22वें प्रधानमंत्री बन गए हैं. इस्‍लामाबाद स्थित राष्‍ट्रपति ......