मालदीव में चीन की दखलअंदाजी भारत के लिए भी चिंता का विषय : पेंटागन
पेंटागन ने आगे कहा कि मालदीव में चीन की ये गतिविधियां उन सभी राज्यों के लिए चिंता का विषय हैं जो रूल बेस्ड ऑर्डर चाहते हैं।


वॉशिंगटन : मालदीव में चीन तेजी से पैर पसार रहा है। उसके बढ़ते दखल ने अमेरिका की नींद उड़ा दी है। मालदीव में चीन की दखलअंदाजी भारत के लिए भी चिंता का विषय है। कुछ वक्त पहले मालदीव के एक पूर्व मंत्री ने चीन पर मालदीव में जमीन हथियाने का आरोप लगाया था और कहा था कि अगर इस स्थिति पर काबू नहीं पाया गया तो भारत और अमेरिका दोनों के लिए बड़ा खतरा पैदा हो सकता है। इन आरोपों के बीच पेंटागन ने शनिवार को कहा कि यह अमेरिका के लिए चिंता का कारण है।

पेंटागन के शीर्ष अधिकारी जोई फेल्टर ने कहा कि अमेरिका एक स्वतंत्र और खुले इंडिया-पसिफिक नियमों के लिए प्रतिबद्ध है, लेकिन जहां तक चीनी प्रभाव की बात है, मालदीव में चिंतित करने वाली गतिविधियां देखी गई हैं। अधिकारी ने आगे कहा, 'यह स्थिति भारत के लिए चिंताजनक है और हमारे लिए भी यह चिंता का विषय है। अब बस यह देखना है कि इससे कैसे निपटा जाए। यह हमारी प्राथमिकताओं में शामिल है।' 

अमेरिका और भारत के लिए पैदा हो सकता है खतरा 
मालदीव में चीन का हस्तक्षेप अमेरिका के साथ साथ भारत के लिए चिंता का विषय इसलिए है क्योंकि चीन और भारत के बीच समय-समय पर विवाद रहे हैं। मालदीव के साथ भी भारत के संबंधों में उस वक्त तनाव आ गया था, जब वहां के राष्ट्रपति ने फरवरी में मालदीव में आपातकाल घोषित कर दिया था। ऐसे में चीन की मालदीव से निकटता भारत के पसीने छुड़ाने वाली है। 

बता दें कि हाल ही में अमेरिका के दौरे के दौरान मालदीव के पूर्व विदेश मंत्री अहमद नसीम ने आरोप लगाया था कि चीन मालदीव के आतंरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रहा है और वहां जमीन हथियाने की कोशिश कर रहा है। अहमद नसीम ने यह भी कहा था कि अगर इस पर नजर नहीं रखी गई और कुछ नहीं किया गया तो अमेरिका और भारत दोनों के लिए खतरा पैदा हो जाएगा। 

पेंटागन ने आगे कहा कि मालदीव में चीन की ये गतिविधियां उन सभी राज्यों के लिए चिंता का विषय हैं जो रूल बेस्ड ऑर्डर चाहते हैं। पेंटागन के अनुसार, 'हम मानते हैं कि हर छोटे-बड़े राज्य के अधिकार तभी पूरे किए जा सकते हैं जब हम एक स्वतंत्र और खुले इंडिया-पसिफिक नियम अपनाएं और नियम आधारित आदेश बनाएं। चीन की कुछ गतिविधियां, जो हमने देखी हैं, वे चिंतिंत करती हैं क्योंकि वे उन हितों के अनुरूप नहीं हैं। मुझे संदेह है कि भारत इन चिंताओं को साझा करता है भी या नहीं।' 

अधिक विदेश की खबरें