अगर फ्रांस और जर्मनी बिना लड़े रह सकते हैं तो भारत-पाक क्यों नहीं: इमरान खान
File Photo


पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बुधवार को करतारपुर कॉरिडोर की आधारशिला रखी. इस कार्यक्रम में पाकिस्तान सेना के प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा भी शामिल हुए. कार्यक्रम में बोलते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि अगर फ्रांस और जर्मनी अपने अतीत को भूलकर शांति से रह सकते हैं तो भारत और पाकिस्तान शांति से क्यों नहीं रह सकते.

इमरान खान ने कहा कि हमें जिस तरह का अवसर मिला है उसके बारे में हम सोच भी नहीं सकते. हम आगे बढ़ना चाहते हैं. हमारे विवाद का विषय कश्मीर है. लोग चांद तक पहुंच गए हैं, ऐसा कौन सा विवाद है जिसे इंसान नहीं सुलझा सकता.

खान ने कहा कि अगर हम अपनी सीमाओं पर मुक्त व्यापार को जारी रखें तो यह एक क्रांतिकारी कदम होगा. इमरान खान ने कहा कि चीन अपने पड़ोसियों से विवाद के बाद भी प्रगति कर रहा है. उनके पास उन्नत दृष्टिकोण है जिस पर वह काम कर रहा है.

इमरान खान ने कहा कि यह समझ से परे है कि क्यों सिद्धू की भारत में आलोचना हो रही है. सिद्धू तो केवल शांति की बात कर रहे थे.वह पाकिस्तान में अगर चुनाव लड़ जाएं तो यहां से जीत जाएंगे. उन्होंने कहा कि हमरे देशों के बीच शांति कायम रखने के लिए सिद्धू के प्रधानमंत्री बनने का इंतजार नहीं करना चाहिए.

इमरान खान ने कहा कि अगर हम युद्ध नहीं कर रहे हैं तो हमें दोस्ती की ओर बढ़ना चाहिए. सिद्धू पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि अगर सिद्धू पाकिस्तान आए तो उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है. यहां वे एक दोस्त की तरह आए थे. यह सोचना पागलपन है कि दो परमाणु शक्ति संपन्न देश युद्ध करेंगे.

अधिक विदेश की खबरें