पेशावर में मिला दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व के इंडो-ग्रीक शासन काल की धातु फैक्टरी
प्रोफेसर ने कहा कि हिन्द यवन लोग अफगानिस्तान से पेशावर आकर बस गए और इस क्षेत्र में करीब 150 सालों तक शासन किया।


इस्लामाबाद, (हि.स.)। पेशावर के करीब स्थित हायताबाद में दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व के इंडो-ग्रीक (हिंद-युनानी) शासन काल की एक धातु फैक्टरी मिली है। पेशावर विश्वविद्यालय के पुरातत्वविद प्रोफेसर गुल रहीम ने जानकारी देते हुए बताया कि इस स्थल पर पिछले तीन साल से खुदाई का कार्य चल रहा था। इस जगह की खुदाई में इंड-ग्रीक काल के कुछ सिक्के भी मिले हैं जो करीब 2200 साल पुराना है। 

प्रोफेसर ने कहा कि हिन्द यवन लोग अफगानिस्तान से पेशावर आकर बस गए और इस क्षेत्र में करीब 150 सालों तक शासन किया। उन्होंने बताया कि खुदाई में भट्ठी, धातु गलाने के बर्तन, चक्की, चाकू, मोल्ड्स आदि कई चीजें मिली हैं जिनका उपयोग धातु फैक्टरी में ही किया जाता है। इससे यह अनुमान लगाया जा सकता है कि यहां इंडो-ग्रीक शासन काल की धातु फैक्टरी थी। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि इस फैक्टरी में तीर,धनुष, खंजर, तलवार जैसे हथियारों का उत्पादन होता था।
यह फैक्टरी कई ब्लॉक में बंटा हुआ है। प्रोफेसर गुल ने बताया पहली बार इंडो ग्रीक शासन काल की सुनियोजित धातु फैक्टरी की खोज हुई है।

पुरातत्व सर्वेक्षणकर्ता मोहम्मद नईम ने बताया कि पक्की ईंटों से बनी बौद्ध स्थलों की तुलना यह मिट्टी का बना हुआ है जिससे इसे सुरक्षित रखना आसान नहीं है।
उन्होंने बताया कि गोर खत्री पुरातात्विक क्षेत्र में भी इंडो ग्रीक काल के कुछ अवशेष मिले हैं।

पेशावर विश्वविद्यालय में एमफिल के रिसर्चर जान गुल ने बताया कि ऐसा पहली बार है जब विद्यार्थियों को इंडो ग्रीक शासन काल के अवशेषों का अध्ययन करने को मिलेगा। इससे पहले केवल बौद्धों और मुगलों के अवशेषों का अध्ययन ही कर सकते थे।

अधिक विदेश की खबरें