टैग:84million#,newyork#,malnutrition
विश्व में 84 करोड़ लोग कुपोषण के शिकार : गुतरेस
संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतरेस


न्यूयॉर्क: संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतरेस ने कहा है कि विश्व में विभिन्न सरकारों के सतत प्रयासों के बावजूद अत्यधिक ग़रीब 47 देशों में आज भी ग़रीबी, भुखमरी, कुपोषण, लिंग असमानता के कारण महिलाओं के प्रति दुर्व्यवहार और मूलभूत स्वास्थ्य सेवाओं में खास सुधार नहीं हुआ है। उन्होंने अफ़सोस जताया कि विश्व में आज भी आधी जनसंख्या अर्थात् साढ़े तीन अरब लोग मूलभूत स्वास्थ्य सेवाओं से वंचित हैं। इन अत्यधिक 47 निर्धन देशों में दक्षिण एशिया से अफ़ग़ानिस्तान, बांग्लादेश और भूटान सहित ज़्यादातर देश अफ़्रीका में हैं। संयुक्त राष्ट्र के 193 सदस्य देश हैं। विश्व में आज भी 84 करोड़ लोग कुपोषण के शिकार हैं। 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने मंगलवार को दुनिया भर में विभिन्न सरकारों की ओर से किए जा रहे सतत विकास के माध्यम से हो रहे प्रयासों की सराहना करने साथ ही निराशा भी जताई कि अत्यधिक ग़रीबी, भुखमरी और स्वास्थ्य सेवाओं में अपेक्षित सुधार नहीं हो सका है। उन्होंने इस संदर्भ में एक विस्तृत रिपोर्ट जारी की। इस रिपोर्ट में सतत विकास के लिए 17 संकेतकों के आधार पर कहा गया है कि विश्व में अफ़्रीका, एशिया और लेटिन अमेरिका में 40 से 85 प्रतिशत लोग अत्यधिक ग़रीबी से जूझ रहे हैं, जहां वर्ष 2030 तक निर्धारित लक्ष्यों को हासिल कर पाना एक दुष्कर चुनौती है। उन्होंने कहा कि यूरोप में मात्र दस प्रतिशत लोग अत्यधिक ग़रीबी रेखा से नीचे आते हैं। उन्होंने कहा कि पिछले तीन दशक में स्थिति में भारी सुधार हुआ है। सन् 2015 में दस प्रतिशत लोग अत्यधिक ग़रीबी की श्रेणी में आते थे, जो अब छह प्रतिशत हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि लिंग असमानता और 15 से 49 वर्ष की आयु की महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार, हिंसा आदि की घटनाओं में कमी तो आई है लेकिन आज भी पांच में से एक महिला हिंसा की शिकार हो रही है।

अधिक विदेश की खबरें