47000 सूअरों को काटकर फेंका गया पानी में, खून की नदी देखकर कांप गई रुह
खून की बही नदी


आखिर ऐसी क्या वजह रही कि उत्तर और दक्षिण कोरिया की सीमा के पास स्थित एक नदी लाल हो गई... बचपन में खून की नदी कई बार सुना लेकिन अब देखने को भी मिल रहा है। 

खून की बही नदी

वजह सामने आई हजारों सु्अरों के आदेश के बाद ये नदी खून से लाल हुई है। ऐसे मंजर देखकर कांप जाए रुह। बताया जा रहा है कि देश में अफ्रीकन स्वाइन फीवर फैलने का खतरा पैदा हुआ, जिसे देखते हुए दक्षिण कोरियाई प्रशासन ने रोकने का फैसला तो किया ही लेकिन उसके बदले 47000 सूअरों का मारने का आदेश भी दिया। इन सुअरों को मारने के बाद बारिश के कारण सीमा के पास स्थित डंपिंग ग्राउंड से खून बहा और नदी में जा मिला जिसकी वजह से खून की नदी बहने लगी। हर कोई देखकर हैरान था लेकिन क्या कर सकते थे प्रशासन का आदेश ऊपर से अफ्रीकन स्वाइन फीवर का प्रकोप खत्म करना था। 


क्यों दिया गया सुअरों को मारने का आदेश?

आपको जानकारी देते हुए बता दें कि अफ्रीकन स्वाइन फीवर लाइलाज बीमारी है जो सूअरों को होती है, इसमें संक्रमित सूअरों ते बचने की कोई उम्मीद बाकी नहीं रह जाती है लेकिन हां इस बीमारी से इंसानों को कोई खतरा नहीं होता।

चीन में ही 12 लाख सूअरों को मारा गया

बीते सप्ताहांत सूअरों को मारने की कार्रवाई की गई थी लेकिन कहा जा रहा है कि अवशेषों को दोनों कोरिया की सीमा के पास स्थित डंपिंग ग्राउंड के पास कई ट्रकों के अंदर ही छोड़ दिया गया था।असल में इन्हें दफनाने के लिए ज़रूरी प्लास्टिक कंटेनर बनाने में देरी के चलते ऐसा हुआ और मृत सूअरों को तुरंत दफन नहीं किया जा सका। पूरी जानकारी देते हुए बता दें कि इस बीमारी के फैलने से चीन, वियतनाम और फ़िलीपीन्स समेत एशिया के कई देश प्रभावित हुए हैं। अकेले चीन में ही 12 लाख सूअरों को इस कारण मारा गया है।

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं) 

अधिक विदेश की खबरें