अमेरिका के MOAB हमले में 13 भारतीय के मरने का दावा
अफगानिस्तान में मौजूदा विलायत खोरासान ऑफ इस्लामिक स्टेट 2015 में वजूद में आया था।


काबुल : अफगानिस्तान की एक न्यूज एजेंसी ने कहा है कि अमेरिका द्वारा आईएस के ठिकानों को उड़ाने के लिए आचिन जिले के नंगरहार प्रांत में MOAB (मैसिल ऑर्डनंस एयर ब्लास्ट) बम से किए गए हमले में '13 भारतीयों' की मौत हो गई। हालांकि नैशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) ने कहा है कि वह इस खबर को लेकर आश्वस्त नहीं है और इसकी जांच कर रही है।

पिछले साल एक षड़यंत्र के तहत केरल के 21 लोग इरान के जरिए अफगानिस्तान के आईएस नियंत्रित इलाके में चले गए थे। अफगानिस्तान में मौजूदा विलायत खोरासान ऑफ इस्लामिक स्टेट 2015 में वजूद में आया था। तहरीक-ए-तालिबान के कई सदस्य इसमें शामिल हो गए थे।

NIA इस केस को देख रही है और बीते दो महीने में दो सदस्य मोहम्मद हफीजुद्दीन और मुर्शिद मोहम्मद की ड्रोन हमलों में मौत हो चुकी है। एक विश्वसनीय सूत्र के हवाले से अफगानिस्तान की न्यूज एजेंसी ने कहा, 'हमले में मारे गए लोगों में 13 भारतीय दाइश लड़ाके भी शामिल थे। दाइश कमांडर मोहम्मद और अल्लाह गुप्ता भारत से थे।' NIA के एक अधिकारी ने कहा है कि वह उन भारतीयों के परिवरों से संपर्क में है।

अधिक विदेश की खबरें