कॉन्गो: चरमपंथियों ने जेल पर किया हमला, 930 कैदी फरार
कॉन्गो में पिछले कुछ समय से जेल तोड़ने और कैदियों के फरार होने की घटनाएं आम हो गई हैं।


किनशासा : डेमोक्रैटिक रिपब्लिक जेल पर चरमपंथियों द्वारा किए गए हमले में 11 लोग मारे गए और करीब 930 कैऑफ कॉन्गो के एक दी भाग गए। यह हमला रविवार को उत्तरपूर्वी कॉन्गो के बेनी शहर में हुआ। जिस समय हमला हुआ, उस समय जेल में कुल 966 कैदी बंद थे। इनमें से 36 को छोड़कर बाकी सारे कैदी जेल से भाग गए। इस घटना में जेल की सुरक्षा में तैनात 8 सुरक्षाकर्मी भी मारे गए। फिलहाल हमलावरों की पहचान नहीं हो सकी है। इस इलाके में कई चरमपंथी संगठन सक्रिय हैं। 

हमले के बाद इस पूरे इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया है। लोगों के घर से निकलने पर पाबंदी लगा दी गई है। भागे हुए कैदियों की तलाश में जगह-जगह छापे मारे जा रहे हैं। रॉयटर्स से बात करते हुए प्रांतीय गर्वनर पालूकु ने कहा, 'केवल सेना और पुलिस को ही इधर-उधर जाने की अनुमति है। जेल पर हमला स्थानीय समय के अनुसार दोपहर साढ़े 3 बजे के करीब हुआ।'

कॉन्गो में पिछले कुछ समय से जेल तोड़ने और कैदियों के फरार होने की घटनाएं आम हो गई हैं। रविवार को हुई वारदात पिछले एक महीने के दौरान हुई अपनी तरह की चौथी घटना है। कॉन्गो के राष्ट्रपति जोसफ काबिला का कार्यकाल दिसंबर 2016 में खत्म हो गया था, लेकिन इसके बावजूद वह पद छोड़ने को तैयार नहीं हुए। इसके बाद से ही कॉन्गो में कानून-व्यवस्था की स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही है। पिछले महीने ही कॉन्गो की राजधानी किनशासा के एक बेहद सुरक्षित माने जाने वाले जेल पर अलगाववादियों ने हमला किया। मौके का फायदा उठाकर करीब 4,000 कैदी जेल से फरार हो गए। शनिवार को किनशासा की ही एक जेल से कम से कम 3 कैदियों के भाग जाने की भी खबर आई थी। 

अधिक विदेश की खबरें