हवाई बमबारी में मारा गया ISIS का सरगना बगदादी : रूस
रूसी सेना का कहना है कि इस बमबारी में बगदादी के अलावा ISIS के कई टॉप कमांडर्स भी मारे गए।


मॉस्को : आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (ISIS) का सरगना अबू बकर अल-बगदादी मारा जा चुका है। यूं तो अब तक कई बार बगदादी को मारे जाने का दावा किया जा चुका है, लेकिन यह पहला मौका है जब रूस के विदेश मंत्रालय के हवाले से यह खबर आई है। खबरों के मुताबिक, सीरिया के अंदर रूस द्वारा की गई एक हवाई बमबारी में बगदादी मारा गया। रूसी विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर बगदादी को मार गिराने का दावा किया है। रूसी सेना का कहना है कि इस बमबारी में बगदादी के अलावा ISIS के कई टॉप कमांडर्स भी मारे गए। रूसी सेना की ओर से इस बमबारी की एक तस्वीर भी जारी की गई है। मालूम हो कि इसी हफ्ते सीरिया के सरकारी टीवी चैनल ने भी बगदादी के मारे जाने की खबर दी थी। अब रूस की सेना द्वारा बगदादी के मारा जाने की पुष्टि करना काफी विश्वसनीय स्रोत माना जा रहा है। चूंकि यह खबर रूस के रक्षा मंत्रालय के हवाले से आई है, ऐसे में इसके सही होने की संभावना काफी ज्यादा है।

मंत्रालय के मुताबिक, रूस के SU-34 और SU-35 विमानों ने उत्तरी सीरिया में रक्का शहर के पास हवाई हमले किए। यह शहर ISIS का मजबूत गढ़ माना जाता है। मंत्रालय के मुताबिक, 28 मई को ही बगदादी मारा जा चुका है। रूस का कहना है कि उन्हें खबर मिली थी कि ISIS के टॉप कमांडर्स की एक खुफिया बैठक हो रही है। रूसी विमानों ने अपनी बमबारी में इसी बैठक को निशाना बनाया। रूस का कहना है कि इस बैठक में कथित तौर पर खुद बगदादी भी मौजूद था। बमबारी में उसकी भी मौत हो गई है। मालूम हो कि एक हफ्ते पहले ही अमेरिका के नेतृत्व में कुर्दिश लड़ाकों की साझा फौज ने रक्का में सैन्य अभियान शुरू किया था। 

रूसी रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी बयान में कहा गया है, 'हमारे पास जो जानकारी है, उसकी कई स्तरों पर और कई तरीकों से पुष्टि किए जाने की कोशिश हो रही है। हमारे पास उपलब्ध सूचना के मुताबिक, ISIS का सरगना इब्राहिम अबू-बकर अल बगदादी मारा जा चुका है। रूसी वायुसेना द्वारा किए गए एक हवाई हमले में बगदादी मारा गया। हमने जिस बैठक को निशाना बनाया था, उसमें बगदादी खुद भी मौजूद था।' बगदादी ने 2014 में इराक के मोसुल शहर पर कब्जा कर खुद को खलीफा घोषित किया था। पिछले साल अक्टूबर में इराकी सेना ने अमेरिकी गठबंधन के नेतृत्व में मोसुल को वापस अपने नियंत्रण लेने के लिए सैन्य कार्रवाई शुरू की। मोसुल के ज्यादातर हिस्सों से अब ISIS को खदेड़ा जा चुका है। पश्चिमी मोसुल के एक छोटे से हिस्से को छोड़कर इराक में अब ISIS के पास कोई जमीन नहीं बची। मोसुल के बाद ISIS का सबसे बड़ा गढ़ सीरिया के रक्का में ही था। अब जबकि रूस के रक्षा मंत्रालय ने बगदादी के मारे जाने का दावा किया है, तो यह बेशक ISIS के अस्तित्व पर सबसे करारी चोट मानी जाएगी। 

अधिक विदेश की खबरें