गुजरात चुनाव : दलित नेता जिग्नेश मेवाणी पर हमला
34 वर्षीय मेवाणी गुजरात के बनासकांठा जिले के वडगाम से स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं.


अहमदाबाद : बीजेपी ने दलित नेता जिग्नेश मेवाणी के उन आरोपों से इनकार किया है, जिसमें उन्होंने अपने काफिले पर हमले के लिए बीजेपी कार्यकर्ताओं को जिम्मेदार ठहराया था. मेवाणी का आरोप है कि जब वह चुनाव प्रचार कर रहे थे, तभी बीजेपी के लोगों ने उन पर हमला कर दिया.

34 वर्षीय मेवाणी गुजरात के बनासकांठा जिले के वडगाम से स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं. कांग्रेस उन्हें बाहर से समर्थन दे रही है. यहां से 200 किलोमीटर दूर यह विधानसभा अनुसूचित जाति के उम्मीदवार के लिए आरक्षित है. पुलिस ने बताया कि मेवाणी के काफिले के एक वाहन पर एक पत्थर फेंका गया. इससे वाहन के शीशे को क्षति पहुंची लेकिन कोई घायल नहीं हुआ. मेवाणी ने कहा कि बीजेपी उनसे डरी हुई है इसलिए ऐसा कर रही है.

उन्होंने ट्वीट किया कि, दोस्तों, बीजेपी समर्थकों ने मुझ पर आज तकरवाड़ा गांव में हमला किया. भाजपा डरी हुई है और इसिलए वह इस तरह की हरकत कर रही है. लेकिन मैं क्रांतिकारी हूं, न तो डरूंगा और न ही झुकुंगा, लेकिन बीजेपी को जरूर हराउंगा.



इसके थोड़ी देर बाद मेवाणी ने दूसरा ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछा, चुनाव जीतने वालों पर हमला करना आपका विचार है या भाजपा प्रमुख अमित शाह का क्योंकि यह गुजरात की परंपरा नहीं है. दिल बड़ा रखो मोदीजी, छाती भले 56 इंच का हो न हो.


हालांकि बीजेपी ने मेवाणी के इन आरोपों से इनकार किया है. गुजरात बीजेपी के प्रवक्ता गजदीश भवसार ने कहा कि मेवाणी के काफ़िले पर हुए हमले से उनकी पार्टी का कोई लेना-देना नहीं. भवसार कहते हैं, 'ये सारे आरोप गलत हैं. यहां तक कि हमारे मुख्यमंत्री (विजय रूपाणी) ने कहा कि हमें लोकतंत्र के इस पर्व (चुनाव) को सही भावना से लेना चाहिए और हिंसा नहीं करनी चाहिए.'


अधिक देश की खबरें