गडकरी ने मालाबार हिल में नेवी की रोक-टोक पर जताई नाखुशी
Nitin gadkari


मुंबई, केंद्रीयमंत्री नितिन गडकरी ने गुरुवार को भारतीय नेवी पर नाराजगी जताई है. उन्होंने कहा कि यह उनकी धारणा बन गई है कि वह विकास के कार्यों में रोड़ा बने. भारत के पहले अंतर्राष्ट्रीय क्रूज टर्मिनस के समारोह में उन्होंने कहा कि नेवी ने मालाबार हिल में एक फ्लोटिंग होटल का विरोध किया, जबकी उनके पास विरोध का उचित कारण भी नहीं था.

गडकरी ने कहा, नेवी और डिफेंस सरकार नहीं हैं. नेवी के लोगों का काम बार्डर पर है, वे साउथ मुंबई में क्यों रहना चाहते हैं? नेवी के लोग मकान के लिए मेरे पास आए थे, लेकिन हमने एक इंच जमीन नहीं दिया. इस नए प्रोजेक्ट हमारे यहां 10 हजार सी प्लेन आ सकते हैं, जिससे टूरिज्म का विकास होगा.

गडकरी ने कहा, सिंगापुर का क्रूज टर्मिनल देखने के बाद मुंबई में टाप क्लास का टर्मिनल बनाने का ख्याल आया. हर साल 80 क्रूज मुंबई में आते हैं. केंद्र सरकार की इस पहल से हर साल 950 क्रूज मुंबई में आएंगे. इससे रोजगार बढ़ेगा. टोटल प्रोजेक्ट की कीमत 6500 करोड़ हैं. इसमें 27 प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है.

उन्होंने कहा कि बाहर की एक कंपनी ने सरकार से वादा किया है कि 40 हजार लोगों को इससे रोजगार मिलेगा. पहले सरकारी अफसर काम में अड़ंगा डालते थे, जिससे बाहर के जहाज का आना मुश्किल था. वे सभी हटा दिए गए हैं.

केंद्रीयमंत्री ने कहा, मेरे पास पैसे की कमी नहीं है, बल्कि काम करने वाले सही नहीं हैं. लोग सरकारी सोच से ऊपर नहीं उठना चाहते हैं.


अधिक देश की खबरें