केंद्र vs बंगाल: ममता के साथ धरने पर बैठे पुलिस कमिश्नर पर एक्शन, वापस लिया जा सकता है मेडल
file photo


केंद्र सरकार और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. सूत्रों के मुताबिक, केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल सरकार से कहा है कि वो कोलकाता पुलिस के कमिश्नर राजीव कुमार का मेडल वापस ले.

कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार रविवार और सोमवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के धरने के दौरान मंच पर लगातार बैठे थे. इसी मंच से ममता बनर्जी सीबीआई का विरोध कर रही थी.

इसके बाद 5 फरवरी को गृह मंत्रालय ने कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के खिलाफ जांच के आदेश दे दिए थे. गृह मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव को इसको लेकर एक पत्र लिखा था. गृह मंत्रालय ने राजीव कुमार पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करने को कहा था.

पश्चिम बंगाल के चीफ सेक्रेटरी को लिखे अपने पत्र में गृह मंत्रालय ने अधिकारी द्वारा अखिल भारतीय सेवाओं (आचरण) नियमों, 1968 / AIS (D&A) नियम, 1969 के अनुशासनहीन व्यवहार और उल्लंघन करने का का हवाला दिया.

बता दें कि राजीव कुमार 8 फरवरी को शिलॉन्ग में सीबीआई के सामने पूछताछ के लिए पेश होंगे. इसके पहले मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिम बंगाल सरकार को नोटिस जारी करते हुए राजीव कुमार को सीबीआई के समक्ष पेश होने और उन्हें जांच में सहयोग करने के लिए कहा था.

इस बीच कहा जा रहा है कि राजीव कुमार सीबीआई के खिलाफ काउंटर एफिडेविट दायर कर सकते हैं. हलफनामे में राजीव कुमार ये बताने वाले हैं कि जिस जानकारी के आधार पर उनके खिलाफ सीबीआई ने केस बनाया वो झूठा हैं.

सीबीआई का दावा है कि शारदा चिट फंड घोटाले की जांच कर रही SIT के प्रमुख राजीव कुमार ही थे. लेकिन राजीव कुमार का दावा है कि वो उन दिनों बिधाननगर पुलिस के कमिश्नर थे. जबकि SIT के प्रमुख के तौर पर ADG, CID काम कर रहे थे.


अधिक देश की खबरें