सम्भल से पाकिस्तान चला गया था आतंकी शना उल हक उर्फ उमर
आतंकी उमर


मीडिया खबरों के मुताबिक अफगान यूएस आर्मी के संयुक्त ऑपरेशन में मारे गए आतंकी शना उल हक उर्फ उमर की कहानी कुछ इस तरह है कि बताया जा रहा है की वो गलत संगति पर पड़कर बिगड़ गया था. साल 1991 में उसने उत्तर प्रदेश के संभल जिले को छोड़ दिया था. हालाँकि उस समय किसी को नहीं पता था की उसके दिमाग में क्या चल रहा है लेकिन और वो कैसे धीरे धीरे पाकिस्तान के संपर्क में आ रहा है.
28 साल पहले सम्भल से पाकिस्तान गया था उमर 

हालाँकि इस संपर्क ने उसे मौत के गड्ढे में धकेल दिया। उसकी इस हरकतों से पूरे गांव को बड़ा झटका लगा इतना ही नहीं उसके परिवारवालो ने भी उससे नाता तोड़ लिया। बताया जा रहा है कि साल 1996 में इंटेलीजेंस रिपोर्ट के बाद दिल्ली की खुफिया टीम सम्भल में उमर के घर पहुंची थी। खुफिया अधिकारियों ने बताया था कि आपका बेटा पाकिस्तान चला गया है और आतंकी संगठनों के साथ है। इस पर परिजनों ने भी सीधे कह दिया था कि अब उस बेटे से उनका कोई रिश्ता नहीं है।


उमर के बारे में बताया जाता है की उसका एक भाई शिक्षक है तो दूसरा इंजीनियर। फिलहाल उसके पिता की मौत हो चुकी है और बुराई के रास्ते पर चलते चलते उसका भी अंत हो चूका है 


उम्र की बन चुकी थी मजबूत पकड़ 

यूएस और अफगानी सेना की कार्रवाई में मारा गया तालिबानी आतंकी उमर भारत में अलकायदा का चीफ था और समय के साथ वह आतंकी संगठन में अपनी मजबूत पकड़ बना चुका था।

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं)  

अधिक देश की खबरें