अयोध्या फैसले पर मुस्लिम युवक ने किया ख़ुशी का इजहार, खून से लिखा कोर्ट के फैसले का स्वागत
चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के अलावा पांच जजों की संवैधानिक पीठ ने यह फैसला सुनाते हुए कहा कि विवादित जमीन पर राम मंदिर बनेगा.


नई दिल्ली: अयोध्या में राम मंदिर के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने दशकों से चले आ रहे चर्चित मामले में अपना फैसला सुना दिया है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के अलावा पांच जजों की संवैधानिक पीठ ने यह फैसला सुनाते हुए कहा कि विवादित जमीन पर राम मंदिर बनेगा. उन्होंने कहा कि विवादित जमीन रामलला को दी जाएगी. कोर्ट ने कहा कि मुस्लिम पक्ष को अयोध्‍या में किसी अन्‍य जगह मस्जिद निर्माण के लिए पांच एकड़ जमीन दी जाएगी. 


पूरे देश में सुप्रीम कोर्ट के इस ऐतिहासिक फैसले के बाद देशभर से लोगों की प्रतिक्रियाएं आने लगी हैं. लेकिन रामपुर निवासी फरहत अली खान ने कोर्ट के इस फैसले का बड़े ही अनोखे तरीके से स्वागत किया है. फरहत अखिल भारतीय मुस्लिम महासंघ के अध्यक्ष भी हैं. फरहत अली ने अपने खून से 'कोर्ट के फैसले का स्वागत' लिखा. 


फरहत अली के मुताबिक हमने पूरे हिंदुस्तान को ये यकीन दिलाने की कोशिश की है कि आखिर में प्यार जीता है. अमन के हक़ में फैसला आया है. उन्होंने कहा कि हम कोर्ट के फैसले का दिल से स्वागत करते हैं. हिंदुस्तान के ज़र्रे जर्रे में रहमान और रहीम बसते हैं. हम कोर्ट के इस फैसले को सिर आंखों पर रखते हैं.

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं)


अधिक देश की खबरें