अयोध्या फैसले पर आडवाणी की पहली प्रतिक्रिया-बोले आंदोलन से जुड़ना सफल हुआ 
आडवाणी ने कहा, आंदोलन का लक्ष्य राम मंदिर निर्माण था, जो आज सुप्रीम कोर्ट के फैसले से संभव हो पा रहा है।


नई दिल्ली: अयोध्या में राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद पहली प्रतिक्रिया भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने दी है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त हो गया है। अयोध्या राम जन्मभूमि आंदोलन के नायक रहे भाजपा वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के सर्वसम्मत फैसले से राम मंदिर निर्माण आंदोलन में उनकी भूमिका सही साबित हुई है। वर्ष 1990 के दशक में रथयात्रा और अन्य कार्यक्रमों के माध्यम से आडवाणी ने अयोध्या आंदोलन का नेतृत्व किया था।


भाजपा नेता ने राम जन्मभूमि आंदोलन को देश के स्वतंत्रता आंदोलन के बाद का सबसे बड़ा जनांदोलन करार देते हुए कहा कि यह उनके लिए सौभाग्य की बात है कि उन्हें इसमें अपना विनम्र योगदान करने का मौका मिला। आंदोलन का लक्ष्य राम मंदिर निर्माण था, जो आज सुप्रीम कोर्ट के फैसले से संभव हो पा रहा है। उन्होंने कहा कि उनका हमेशा यह मानना था कि भारत की संस्कृति और सभ्यता में राम और रामायण को आदर का स्थान प्राप्त है।


आडवाणी ने अपने एक बयान में कहा, "सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की संविधान पीठ ने अयोध्या मामले पर जो फैसला दिया है, उसका स्वागत करने में मैं भी देशवासियों के साथ हूं. यह मेरे लिए पूर्णता का क्षण है क्योंकि ईश्वर ने मुझे इस आंदोलन से जुड़ने का मौका दिया. उन्होंने अयोध्या में किसी प्रमुख स्थान पर मस्जिद निर्माण के लिए पांच एकड़ भूमि देने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का भी स्वागत किया।

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं)


अधिक देश की खबरें