पंजाब में 70 प्रतिशत और गोवा में 83 प्रतिशत रिकार्ड मतदान
इस चुनाव में सत्तारूढ़ भाजपा का तगड़ा मुकाबला कांग्रेस, आप और एमजीपी, शिवसेना व जीएसएम के गठबंधन से है।


चंडीगढ़ : पंजाब में शनिवार को विधानसभा चुनाव में अनुमानत: 70 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया जिस दौरान राज्य में तकनीकी गड़बड़ी एवं हिंसा की छिटपुट घटनाएं सामने आयीं। पंजाब विधानसभा चुनाव में कांग्रेस, सत्ताधारी शिअद.भाजपा गठबंधन और आप के बीच मुकाबला है। गोवा विधानसभा चुनावों में शनिवार को 83 प्रतिशत से अधिक मतदान दर्ज किया गया। इस चुनाव में सत्तारूढ़ भाजपा का तगड़ा मुकाबला कांग्रेस, आप और एमजीपी, शिवसेना व जीएसएम के गठबंधन से है। 

निर्वाचन कार्यालय के एक प्रवक्ता ने मतदान प्रतिशत का प्रारंभिक आंकड़ा देते हुए कहा, ‘करीब 70 प्रतिशत मतदान हुआ है।’ अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी..चुनाव) वी के भावरा ने कहा, ‘हिंसा की कुछ छिटपुट घटनाओं को छोड़कर एकल चरण वाला मतदान शांतिपूर्ण रहा।’ पुलिस ने बताया कि संगरूर जिले में सुल्तापुर गांव में आप और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच हुए संघर्ष में दो व्यक्ति घायल हो गए।

पुलिस ने बताया कि तरण तारण जिले में लालू घुमान गांव में एक मतदान केंद्र के बाहर एक अकाली समर्थक द्वारा कथित तौर पर की गई गोलीबारी में जगजीत सिंह नाम का एक कांग्रेस कार्यकर्ता घायल हो गया। पंजाब विधानसभा चुनाव में पहली बार मतदान की पर्ची देने वाली ईवीएम मशीन बड़ी संख्या में लगायी गई हैं। इन मशीनों में राज्य में मतदान प्रक्रिया के दौरान तकनीकी गड़बड़ी आयी।

निर्वाचन कार्यालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि तकनीकी गड़बड़ी मजीठा और संगरूर में मतदान पर्ची देने वाली ईवीएम मशीनों में आने की जानकारी मिली। इसकी जानकारी चुनाव आयोग को दे दी गई है। पंजाब के मुख्य निर्वाचन अधिकारी वी के सिंह ने बताया कि मशीनों में गड़बड़ी के चलते कई बार मतदान रोकना पड़ा। उन्होंने बताया कि इन मशीनों को अन्य मशीनों से बदला गया।

निर्वाचन विभाग के एक आधिकारिक प्रवक्ता ने यहां बताया कि 2012 के विधानसभा चुनाव में 79 प्रतिशत से अधिक मतदाताओं ने वोट डाला था। मतदान के अंतिम आंकड़े का अभी इंतजार है क्योंकि मतदान बूथों के भीतर पंक्तियों में खड़े सभी लोगों को मतदान की इजाजत दी जाएगी। गोवा में चुनाव आयोग के सूत्रों के मुताबिक, शाम पांच बजे के बाद भी राज्य में कई मतदान केन्द्रों पर मतदाताओं की लंबी कतारों को देखते हुए मतदान का प्रतिशत बढ़ सकता है। खनन पट्टी संखलिम, बिचोलिम और चचरेरेम में भारी मतदान देखा गया।

उन्होंने कहा कि 40 विधानसभा सीटों के लिए यह चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से हुआ और इस तटीय राज्य में कहीं से भी किसी अप्रिय घटना की रिपोर्ट नहीं आई। हालांकि कुछ इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों में खराबी और एक मतदान केन्द्र में मतदान निरस्त किए जाने की रिपोर्ट है। पणजी शहर में एक मतदान केन्द्र के बाहर 78 वर्षीय एक महिला की मृत्यु हो गई। लेसिले सलदान्हा मतदान केन्द्र के बाहर अपनी बारी आने का इंतजार कर रही थीं और अचानक गिर पड़ीं और उनकी मृत्यु हो गई।

विभिन्न मतदान केन्द्रों से चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक, 11.10 लाख मतदाताओं में से 83 प्रतिशत से अधिक ने अपने मताधिकारों का प्रयोग किया। वर्ष 2012 के विधानसभा चुनावों में 83 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया था। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, केन्द्रीय मंत्री श्रीपद नाईक और मुख्यमंत्री लक्ष्मीकांत परसेकर ने शुरुआत में ही मतदान किया। इस चुनाव में कुल 250 उम्मीदवार खड़े हैं जिसमें कई निर्दलीय उम्मीदवार भी शामिल हैं। यह चुनाव गोवा के पांच पूर्व मुख्यमंत्रियों- चर्चिल एलेमाओ, प्रतापसिंह राणे, रवि नाईक, दिगंबर कामत और लुइजिन्हो फलेरियो एवं मौजूदा मुख्यमंत्री परसेकर के भाग्य का फैसला करेगा।

भाजपा ने 36 उम्मीदवार खड़े किए हैं, जबकि कांग्रेस ने 37 और आप ने 39 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं।

वर्ष 2012 में चुनाव पूर्व गठबंधन करने वाली भाजपा इस बार अकेले चुनाव लड़ रही है क्योंकि उसकी सहयोगी रही एमजीपी ने आरएसएस के बागी नेता सुभाष वेलिंगकर द्वारा स्थापित गोवा सुरक्षा मंच और शिवसेना के साथ एक मोर्चा बना लिया है।इन चुनावों में डाले गए मतों की गणना 11 मार्च को होगी।


अधिक देश की खबरें

Assembly Election Result 2018: राज्यपाल से मिलकर कमलनाथ ने पेश किया सरकार बनाने का दावा, सिंधिया-दिग्विजय भी थे साथ..

मध्य प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के समर्थन के ऐलान के बाद यहां कांग्रेस ......