शशिकला ने बताया 'भाई' पन्नीरसेल्वम ने खुद दिया पद
AIADMK महासचिव वीके शशिकला का पार्टी के विधायक दल की नेता चुना जाना जनभावना के खिलाफ है।


चेन्नैई : पन्नीरसेल्वम के इस्तीफे के बाद वीके शशिकला तमिलनाडु की अगली मुख्यमंत्री होंगी। ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK) की महासचिव शशिकला को सत्ता सौंपे जाने का फैसला रविवार को पार्टी विधायकों की अहम बैठक के बाद सामने आया। सत्ता परिवर्तन पर विपक्ष के सवालों के बीच शशिकला ने कहा है कि 'प्रिय भाई' पन्नीरसेल्वम ने ही उन्हें मुख्यमंत्री का पद सौंपने का फैसला किया है। उन्होंने इसे विपक्ष की उम्मीदों को तोड़ने वाला बताया। उधर, पन्नीरसेल्वम ने राज्यपाल को भेजे अपने इस्तीफे में कहा है कि वह निजी कारणों से पद छोड़ रहे हैं।

विधायकों द्वारा सर्वसम्मति से चुनी जाने के बाद शशिकला ने कहा, 'नए घटनाक्रम से हमारे विपक्षियों की उम्मीदें ध्वस्त हो गईं हैं कि अम्मा (जयललिता) के बाद पार्टी बिखर जाएगी।' गौरतलब है कि शशिकला तमिलनाडु की तीसरी महिला मुख्यमंत्री बनने जा रही हैं। वह मंगलवार को शपथ ले सकती हैं।

शशिकला ने पन्नीरसेल्वम की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा, 'जब भी पार्टी ने किसी मुश्किल हालात का सामना किया या अम्मा को दिक्कत हुई तो हमारे प्रिय भाई पन्नीरसेल्वम ही विश्वसनीय रहे। उन्होंने ही मुझे पार्टी की महासचिव और मुख्यमंत्री बनने को कहा।' पार्टी विधायकों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार तमिलनाडु की जनता की भलाई के लिए काम करती रहेगी।

DMK के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन ने रविवार को कहा कि AIADMK महासचिव वीके शशिकला का पार्टी के विधायक दल की नेता चुना जाना जनभावना के खिलाफ है। स्टालिन ने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में जब जयललिता को जेल जाना पड़ा था, तब उन्होंने पन्नीरसेल्वम को सरकार का नेतृत्व करने की बात कही थी। इसी तरह जयललिता जब बीमार हुईं और अपोलो अस्पताल में भर्ती थीं तब भी पन्नीरसेल्वम ने प्रशासन संभाला था।

स्टालिन ने कहा, ‘जयललिता जब तक जीवित थीं, उन्होंने न तो ही पार्टी में और न ही सरकार में शशिकला को कोई पद दिया था।’ स्टालिन के मुताबिक, शशिकला को मुख्यमंत्री के लिए चुना जाना दिवंगत जयललिता की इच्छा के खिलाफ है। उल्लेखनीय है कि दिसंबर में जयललिता का निधन हो गया था। 


अधिक देश की खबरें