राज्यसभा में विमला आवास कांड मामले पर भड़कीं रूपा गांगुली
राज्यसभा में गुरुवार को कांग्रेस सांसद रजनी पाटिल द्वारा विमला आवास कांड में बच्चों की तस्करी के मामले का जिक्र करने से भाजपा सांसद रूपा गांगुली भड़क गईं|


नई दिल्ली : राज्यसभा में गुरुवार को कांग्रेस सांसद रजनी पाटिल द्वारा विमला आवास कांड में बच्चों की तस्करी के मामले का जिक्र करने से भाजपा सांसद रूपा गांगुली भड़क गईं| उन्होंने सदन में अपनी जगह पर खड़ी होकर आरोप लगाया कि पाटिल ने प्रत्यक्ष तौर पर इस मामले में उनका नाम लिया है। उन्होंने इस पर प्रतिक्रिया देने के लिए उप सभापति पी जे कुरियन से बोलने का समय मांगते हुए कहा कि सभापति को उन्हें बोलने का समय देना होगा। 

पाटिल के बयान का विरोध करते हुए रूपा उप सभापति के आसन के पास भी पहुंच गईं थीं। उन्होंने कहा कि माननीय सभापति और सभी सम्मानीय सांसदों से मैं कहना चाहूंगी कि वे निजी आरोप न लगाएं। वह बोल ही रही थीं कि सभापति ने बीच में ही उन्हें रोकते हुए पूछा कि क्या कांग्रेस सांसद ने उनका नाम लिया है। 

उप सभापति उनसे लगातार पूछते रहे कि क्या उनका नाम लिया गया है। इसके जवाब में रूपा ने कहा कि सीधे तौर पर उनका नाम तो नहीं लिया गया है, लेकिन इशारों में उनके यहां उपस्थित होने का जिक्र किया गया है। इस पर उप सभापति ने उन्हें आश्वासन दिया कि वह रेकॉर्ड देखकर इसका पता लगाएंगे। उप सभापति ने कहा कि अगर रूपा का नाम प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर लिया गया होगा, तो वह रेकॉर्ड देखकर इसे हटवा देंगे। 

कोई सीधे तौर पर अगर नाम न भी ले, तो भी पद का जिक्र करके या फिर किसी और अप्रत्यक्ष तरीके से इस तरह किसी सांसद का नाम नहीं ले सकता है। सभापति द्वारा आश्वासन दिए जाने के बाद रूपा शांत होकर अपनी जगह पर बैठ गईं। 

उल्लेखनीय है कि बच्चों की खरीद-फरोक्त और तस्करी मामले में गिरफ्तार विमला आवास कांड की आरोपी चंदना चक्रवर्ती ने बच्चों को बेचने की प्रक्रिया में रूपा गांगुली और कैलाश विजयवर्गीय का नाम लिया था। पश्चिम बंगाल में सीआईडी द्वारा इस मामले में पूछताछ किए जाने पर खुद को निर्दोष बताते हुए चंदना ने इन सभी को पकड़ने की बात कही थी। चंदना विमला शिशु गृह चलाती थी। उस पर कई बच्चों को बेचने का आरोप है। 


अधिक देश की खबरें