सोनू निगम ने अजान के बारे में बोलकर भारतीयों की धार्मिक भावनाएं आहत की : मौलवी सैयद शाह
सोनू निगम ने धर्मस्थ।लों पर लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल को लेकर अपनी टिप्पणी से संविधान का अनादर किया है


कोलकाता : पश्चिम बंगाल अल्पसंख्यक संयुक्त परिषद के उपाध्यक्ष मौलवी सैयद शाह आतेफ अली अल कादरी ने दावा किया है कि सिंगर सोनू निगम ने धर्मस्थलों पर लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल को लेकर अपनी टिप्पणी से संविधान का अनादर किया है और उन्हें देश छोड़ने के बारे में विचार करना चाहिए।

कादरी ने कहा, ‘सोनू निगम ने अजान के बारे में बोलकर कई भारतीयों की धार्मिक भावनाएं आहत की हैं। उन्हें यह स्वीकार करते हुए जल्द से जल्द माफी मांगनी चाहिए कि उन्होंने गलती की है। नहीं तो निगम को 10 लाख रुपये इनाम लेने के लिए मेरे द्वारा तय की गई अन्य शर्तें पूरी करनी चाहिए।’

कादरी ने कहा, ‘सोनू ने अपना सिर मुंड़वा लिया है। उन्हें अभी वह दो चीजें और करने की जरूरत है जो मैंने कहीं थीं, जूते की माला पहनना और देश का दौरा करना। जब वह ये दो काम पूरे कर लेंगे मैं एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करूंगा और उन्हें चेक सौंप दूंगा।’ सोनू निगम ने बुधवार को मुंबई में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में अपना सिर मुंड़वा लिया था और कहा था कि उनके ट्वीट सुबह की प्रार्थना में लाउडस्पीकर इस्तेमाल को लेकर थे और इसका किसी विशेष धर्म से संबंध नहीं है।

इससे पहले धर्मस्थलों में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल पर सवाल उठाने के बाद चौतरफा घिरे मशहूर गायक सोनू निगम ने बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस पूरे मामले पर सफाई दी थी। सोनू ने कहा कि वह एक छोटी सी बात को इतना बड़ा बना दिए जाने से हैरान हैं। उन्होंने अपने ऊपर हो रहे चौतरफा हमले और मौलवी के फतवे के विरोध में अपना सिर भी मुंड़वा लिया।

सोनू निगम ने कहा था कि, 'आज जब कई लोग उन्हें ऐंटी-मुस्लिम बता रहे हैं तो यह उनकी समस्या नहीं है। यह ऐसे लोगों की सोच की दिक्कत है, क्योंकि उनके सबसे नजदीक जो लोग हैं वे सभी मुस्लिम हैं। उन्होंने कहा कि एक ऐसे शख्स पर इस तरह का इल्ज़ाम लगाना जो मोहम्मद रफी को अपना पिता मानता हो, सरासर गलत है और यह ऐसे लोगों की सोच की दिक्कत है।'

निगम का सिर मूंड़ने वाले उनके हेयर ड्रेसर आलिम हाकिम ने अपना काम करने के बाद कहा कि अगर मौलवी के पास 10 लाख रुपये हैं तो वह उन्हें दे दें। वह उन पैसों को चैरिटी में दान कर देंगे।


अधिक देश की खबरें