गुजरात में प्रचार को मचल रही यूपी की युवा जोड़ी
सपा-कांग्रेस गठबंधन की युवा जोड़ी एक बार फिर गुजरात में सत्तारूढ़ दल के खिलाफ चुनाव प्रचार में जुगलबंदी को मचल रही है।


नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा के खिलाफ लामबंद सपा-कांग्रेस गठबंधन की युवा जोड़ी एक बार फिर गुजरात में सत्तारूढ़ दल के खिलाफ चुनाव प्रचार में जुगलबंदी को मचल रही है। ये दीगर बात है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में युवाओं को लुभाने के लिए साथ आई सपा-कांग्रेस की यह जोड़ी कुछ कमाल न कर सकी और सत्तारूढ़ सपा को भाजपा के हाथों बुरी तरह पराजय का सामना करना पड़ा।

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के पक्ष में प्रचार करने का संकेत दिया है। उन्होंने कहा है कि अगर कांग्रेस उपाध्य़क्ष राहुल गांधी ने मुझे बुलाया तो वह गुजरात में चुनाव प्रचार करने को भी तैयार हैं। हालांकि, इस बारे में राहुल की ओर से अभी कोई टिप्पणी नहीं की गई है ।

दरअसल, उत्तर प्रदेश में इस साल की शुरुआत में हुए विधानसभा चुनाव से ठीक पहले सूबे की सत्ता पर काबिज सपा का कांग्रेस के साथ गठजोड़ हुआ था। हालांकि, अखिलेश और राहुल की जोड़ी के बावजूद गठबंधन भाजपा के विजय अभियान को रोकने में नाकाम रहा। चुनाव नतीजों में भाजपा को मिली 312 सीटों की तुलना में सपा-कांग्रेस गठबंधन को 54 सीटों पर ही संतोष करना पड़ा। बावजूद, सपा अध्यक्ष कांग्रेस के साथ गठजोड़ को बरकरार रखने की जोरदार पैरवी करते रहे हैं। वह 2019 में अगला आम चुनाव भी कांग्रेस के साथ मिलकर लड़ने की हिमायत करते आ रहे हैं।

बहरहाल, उत्तर प्रदेश में साझा प्रचार अभियान के बावजूद भाजपा को रोकने में नाकाम रहा सपा-कांग्रेस गठजोड़ गुजरात में भाजपा के खिलाफ कितना प्रभावी साबित होगा,देखना दिलचस्प होगा।


अधिक देश की खबरें