जिन्ना की इकलौती बेटी दीना वाडिया का निधन
दीना ने बंटवारे के बाद भारत में रहने का फैसला किया था


मुम्बई : पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की पुत्री दीना वाडिया का गुरुवार को न्यूयॉर्क स्थित उनके आवास पर निधन हो गया. वाडिया समूह के एक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी. वह वह 98 वर्ष की थीं. वाडिया समूह के एक बयान में कहा कि दीना वाडिया के परिवार में उनके पुत्र एवं वाडिया समूह के अध्यक्ष नुसली एन वाडिया, पुत्री डीएन वाडिया और पोते नेस और जेह हैं.

दीना का जन्म लंदन में 14-15 अगस्त की रात को 1919 में हुआ था. दीना वाडिया ने मुस्लिम के बजाय पारसी कारोबारी नेस वाडिया से शादी की थी और बंटवारे के बाद भारत में रहने का फैसला किया था. कहा जाता है कि अपनी बेटी के इस फैसले से मोहम्मद जिन्ना को गहरा सदमा लगा था. बाद में दीना अमेरिका में जाकर बस गईं और दो बार ही पाकिस्तान गईं. 

जिन्ना की बेटी के बारे में ख़ास बातें- 

लंदन के एक थिएटर में मूवी के देखते हुए जिन्ना की हिंदू पत्नी रति जिन्ना ने दिया था दीना को जन्म.
दीना ने पारसी कारोबारी नेविली वाडिया से शादी की थी और विभाजन के बाद भारत में ही रहने का फैसला किया था.
दीना की शादी पर जिन्ना के कहा था- भारत में हजारों मुस्लिम लड़के हैं तुम्‍हें वही एक मिला था.
पिता के सवाल पर दीना ने दिया जवाब- इस देश में हजारों मुस्लिम लड़कियां थीं फिर आपको शादी करने के लिए मेरी मां ही मिली. 
जिन्ना पाकिस्तान के पहले गवर्नर जनरल और संस्थापक बने. जिन्ना को पाकिस्तान में राष्ट्रपिता का दर्जा दिया प्राप्त है.
दीना अपने जीवन में केवल दो बार पाकिस्तान गईं. अपने पिता के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हुई थीं. 




अधिक विदेश की खबरें