गुजरात चुनावः पहले चरण में 68 प्रतिशत हुआ मतदान
गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण में शनिवार को सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के 19 जिलों की 89 सीटों पर भारी वोटिंग हुई।


नई दिल्ली : गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण में शनिवार को सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के 19 जिलों की 89 सीटों पर भारी वोटिंग हुई। चुनाव आयोग के अनुसार शाम 5 बजे तक कुल 68 फीसदी मतदान की सूचना है और कई जगहों से आंकड़े आना अब भी बाकी हैं। 

गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान पहली बार बड़े स्तर पर सभी ईवीएम में वीवीपीएटी प्रणाली का प्रयोग किया गया। कुल 977 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला ईवीएम में बंद हो गया है। पहली बार दिव्यांगों के लिए सुगम और महिलाओं के लिए सखी जैसे प्रयोग किए गए। इसके अलावा राज्य में हो रहे मतदान की डिजिटल मैपिंग भी की गई। 

बीजेपी की तरफ से सबसे पहले गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष जीतूभाई वघाणी ने भावनगर में वोट डाला। इसके बाद गुजरात सीएम विजय रुपाणी ने पहले मंदिर में पूजा-पाठ किया और राजकोट से वोट डाला। वह राजकोट पश्चिम की सीट पर कांग्रेस के इंद्रनील राज्यगुरु के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं। वोट डालने के बाद रुपाणी ने कहा, 'हमें पूरा विश्वास है कि हम ही जीतेंगे। किसी तरह की चुनौती का कोई सवाल ही नहीं।' कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला ने भी राजकोट में मतदान किया। गुजरात परिवर्तन पार्टी के अध्यक्ष केशुभाई पटेल, बीजेपी के आरसी फाल्दू और कांग्रेस के अर्जुन मोडवाढ़िया सहित राज्य के शीर्ष नेताओं का चुनावी भविष्य भी शनिवार को ईवीएम में बंद हो गया। शनिवार को 87 सीटों के लिए वोट डाले गए जबकि राज्य में विधानसभा सीटों की कुल संख्या 182 है। 



मतदान केंद्रों के बाहर दिन भर वोटरों की लंबी कतारें रहीं। कुछ जगहों पर ईवीएम में गड़बड़ी की भी शिकायतें मिलीं, जिस वजह से मतदान बाधित हुआ। गुजरात प्रधानमंत्री मोदी का गृह राज्य है और उन्होंने यहां जमकर प्रचार किया है। वहीं कांग्रेस ने भी प्रचार में एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया। यहां 2.12 करोड़ वोटर हैं। 

इस चरण में कच्छ, मोरबी, जामनगर, सुरेंद्रनगर, देवभूमि, द्वारका, राजकोट, बोटाद, पोरबंदर, जूनागढ़, अमरेली, गिर सोमनाथ, भावनगर, भरूच, नर्मदा, सूरत, तापी, नवसारी, डांग और वलसाड जिलों में वोटिंग हो रही है। गुजरात में बीजेपी और कांग्रेस के बीच कड़ी टक्कर के बीच इसे प्रधानमंत्री मोदी की प्रतिष्ठा और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के लिटमस टेस्ट के रूप में देखा जा रहा है। राहुल गांधी जल्द ही कांग्रेस के अध्यक्ष बनने वाले हैं। 

ईवीएम में गड़बड़ी और छेड़छाड़ की शिकायतों को लेकर भावनगर के उप चुनाव अधिकारी योगेश ठक्कर ने कहा, 'अब तक ऐसे (छेड़छाड़ के) कोई मामले सामने नहीं आए हैं। कुछ जगह गड़बड़ी के बाद मशीनों को बदला जरूर गया है। ईवीएम वीवीपीएटी से भी लैस हैं।' मतदान के पहले चरण में 24,689 वीवीपीएटी की यूनिट्स में से 1.90 प्रतिशत, 26,865 बैलट यूनिट्स में से 0.37 प्रतिशत और 24,689 कंट्रोल यूनिट्स में से 0.38 प्रतिशत यूनिट्स खामियों के चलते बदली गईं। 

गुजरात चुनाव के पहले दौर का चुनाव प्रचार पीएम मोदी और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के इर्द-गिर्द ही रहा। इस दौरान कई बार व्यक्तिगत हमले भी किए गए और अयोध्या का मुद्दा, राहुल गांधी के प्रमोशन और उनके मंदिर दर्शन को भी खूब भुनाया गया। प्रधानमंत्री मोदी ने सात दिनों से ज्यादा का समय सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात में गुजारा और 15 जनसभाओं को संबोधित किया। 


अधिक देश की खबरें