चाचा चौधरी और साबू सिखाएंगे बच्चों को ‘स्वच्छता’ का सबक
चाचा चौधरी और साबू के अलावा बिल्लू और पिंकी व अमर चित्रकथा की कहानियों के सहारे बच्चों में साफ सफाई के लिए ललक पैदा की जा रही है.


नई दिल्ली : बच्चों के जेहन में आसानी से जगह बनाने वाले कॉमिक्स के किरदार चाचा चौधरी और साबू अब नई पीढ़ी को ‘स्वच्छता’ का सबक सिखाएंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर आवास एवं शहरी विकास मंत्रालय द्वारा शुरू किए गए स्वच्छ भारत अभियान में बच्चों के पसंदीदा कॉमिक्स किरदारों की भी भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए यह पहल की है. इसमें चाचा चौधरी और साबू के अलावा बिल्लू और पिंकी व अमर चित्रकथा की कहानियों के सहारे बच्चों में साफ सफाई के लिए ललक पैदा की जा रही है. बच्चों तक सफाई का संदेश क्षेत्रीय भाषाओं में पहुंचने का भी खास ध्यान रखा गया है.

मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि इस अभियान में भागीदार बनने की यह अनूठी पहल बाल साहित्य से जुड़े देश के दो अग्रणी प्रकाशन समूह डायमंड पॉकेट बुक्स और अमर चित्र कथा ने की है. उन्होंने बताया कि इस कवायद के पहले चरण में अमर चित्र कथा ने पिछले साल सितंबर में ‘‘स्वच्छ भारत: द क्लीन रिवोल्यूशन’’ नाम से एक पुस्तक का प्रकाशन किया था.

अंग्रेजी में प्रकाशित इस पुस्तक में स्वच्छता को भारतीय संस्कारों का हिस्सा बताते हुए सिंधु सभ्यता से लेकर मौर्य काल में चाणक्य और आधुनिक काल में महात्मा गांधी तक दिए गए सफाई के संदेश का इतिहास इस पुस्तक के माध्यम से बच्चों को बताया गया है. इससे बच्चे अपने घर के अलावा अपने गली मोहल्ले, पार्क, स्कूल और अन्य सार्वजनिक स्थलों को गंदा करने के बजाय साफ रखने के स्वत:स्फूर्त भाव से खुद को जुड़ा हुआ महसूस कर सकेंगे.

डायमंड पॉकेट बुक्स की ओर से मंत्रालय को मिले प्रस्ताव में दलील दी गई है कि किसी भी काम को भावी पीढ़ियों के लिए परंपरा बनाने में बच्चे अहम भूमिका निभाते हैं. इसलिए सफाई के अभियान में भी बच्चों को संदेशवाहक और संदेशपालक बनाने के लिए कॉमिक्स के लोकप्रिय किरदारों का सहारा लेने की पहल की गई.

16 भाषाओं में कॉमिक्स
मंत्रालय की मंजूरी मिलने के बाद डायमंड प्रकाशन ने इस अभियान से बच्चों को उनकी अपनी स्थानीय भाषा में जोड़ने के लिए 16 भाषाओं में ‘स्वच्छ भारत’ श्रृंखला की कॉमिक्स प्रकाशित की है. प्रकाशन समूह की प्रवक्ता कृतिका ने बताया ‘‘स्वच्छ भारत श्रृंखला की कॉमिक्स में चाचा चौधरी और साबू हिंदी और अंग्रेजी ही नहीं संस्कृत, मराठी, पंजाबी, उड़िया और मलयालम सहित 16 क्षेत्रीय भाषाओं में बच्चों को किस्से कहानियों के माध्यम से सफाई के गुर सिखा रहे हैं.’’ प्रकाशन ने सभी लक्षित समूहों तक कॉमिक्स पहुंचाने में स्थानीय पुलिस सहित तमाम सरकारी और गैरसरकारी संगठनों का भी सहयोग लिया है. मसलन दिल्ली पुलिस मुख्यालय में भी प्रकाशन समूह की ओर से मुफ्त में ये कॉमिक्स वितरित करवाई जा रही हैं.

स्वच्छता पर कॉमिक्स की लोकप्रियता से उत्साहित होकर प्रकाशन समूह ने दिल्ली पुलिस के समक्ष यातायात नियमों के प्रति जागरुकता के लिए भी कॉमिक्स को माध्यम बनाने की पेशकश की है. इसके तहत बच्चों के चहेते चाचा चौधरी, बिल्लू और पिंकी बच्चों को यातायात नियमों का पालन करने के तरीके और इनके फायदे बतायेंगे. दिल्ली पुलिस को यातायात नियमों के पालन को लोकप्रिय बनाने वाले जागरुकता अभियानों में बच्चों को जोड़ने की दरकार थी, जिसे अब कॉमिक्स के जरिये आसानी से पूरा किया जा सकेगा.

क्षेत्रीय स्तर पर भी स्वच्छ भारत पर कॉमिक्स
स्वच्छ भारत पर कॉमिक्स की कवायद को देशव्यापी स्तर पर शुरू करने के बाद अब इसे क्षेत्रीय स्तर पर भी शुरू किया गया है. इसकी शुरुआत मध्य प्रदेश सरकार ने की है.

कृतिका ने बताया कि डायमंड बुक्स ने ‘‘स्वच्छ भोपाल’’ थीम पर भी इसी तरह की कॉमिक्स का प्रकाशन करने की मध्य प्रदेश सरकार की पहल को आगे बढ़ाया है. इसमें कॉमिक्स के किरदार बच्चों को भोपाल शहर के प्रमुख पर्यटक स्थलों के अलावा सार्वजनिक स्थानों को साफ रखने के संदेश अनूठे अंदाज में देते नजर आयेंगे.

इसके अलावा देश की सांस्कृतिक विरासत को विभिन्न राज्यों में बच्चों तक पहुंचाने के लिये भी प्रकाशन ने कॉमिक्स को माध्यम बनाया है. इस कड़ी में तेलंगाना में महिलाओं द्वारा मनाये जाने वाले फूलों के त्योहार ‘‘बतुकम्मा’’ से जुड़े सामाजिक सौहार्द के महत्व को चाचा चौधरी हिंदी भाषी राज्यों के बच्चों तक पहुंचा रहे हैं.


अधिक देश की खबरें

अमृतसर रेल हादसाः ड्राइवर ने कहा, 'मैंने ब्रेक लगाया लेकिन ट्रेन रुकी नहीं, लोग पत्थर फेंकने लगे तो बढ़ा दी स्पीड'..

अमृतसर में दशहरा उत्सव के दौरान हुए रेल हादसे में 61 लोगों की मौत के बाद जीआरपी ... ...