तीन थानों में हुई पांच एफआईआर, पीड़ित का दर्ज तक नहीं हुआ बयान
यूपी पुलिस की कारस्तानी, आज तक थाने से कोई अधिकारी पीड़ित का बयान दर्ज करने तक नहीं पहुंचा।


लखनऊ : उत्तर प्रदेश में मुस्लिम लोगों के बीच अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिये जागरूकता अभियान चलाने वाले राष्ट्रवादी आजम खान को एक बार फिर से जान से मारने की धमकियां मिली है। इससे पहले भी पांच बार इन्हें धमकी मिल चुकी है और इन्होंने तीन थानों अलीगंज, गुडम्बा और विकास नगर में पांच प्रार्थना पत्र दें कर एफआईआर दर्ज करायी है। किन्तु यूपी पुलिस की कारस्तानी, आज तक थाने से कोई अधिकारी पीड़ित का बयान दर्ज करने तक नहीं पहुंचा। 

मुस्लिम कारसेवक मंच नामक सामाजिक संस्था के करता धरता आजम खान अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिये कुछ वर्षो से सक्रिय है। वह लखनऊ के विकास नगर में श्रीराममंदिर निर्माण मुस्लिम कारसेवक मंच का कार्यालय खोलकर वहां से उत्तर प्रदेश के मुस्लिम समाज के बीच राम मंदिर निर्माण के लिये जागरूकता अभियान चला रहे है। उनके द्वारा पूर्वांचल और मध्य उत्तर प्रदेश के प्रमुख जिलों तक पदाधिकारी बनाये गये है और संगठन की भूमिका हैं। पश्चिम उत्तर प्रदेश में उनका संगठन पांव जमा रहा है।

पिछले एक वर्ष से आजम खान को कई दफा इण्टरनेट काल के माध्यम से उनके मोबाइल फोन पर धमकियां दी गयी है। कई बार तो सामने से बोलने वाला जान माल की हानि करने तक की धमकी देता है। इससे भयभीत आजम खान ने अलग अलग थानों में अपनी प्रार्थना पत्र दें कर अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी। बाजवूद कभी किसी विवेचक ने उनसे बातचीत नहीं की, ना हीं उनका बयान दर्ज किया। 

राष्ट्रवादी आजम खान ने बताया कि प्रदेश में रामभक्तों की सरकार बनने के बाद उनका अभियान जोर पकड़ लिया लेकिन उनको फोन आने का सिलसिला भी इसी के साथ शुरू हो गया। उनका लक्ष्य केवल अयोध्या में भव्य राम मंदिर का है। इसके लिये वह अपना कार्य करते रहेंगे। पुलिस विभाग उन्हें सुरक्षा दें और अज्ञात लोगों के विरूद्ध कार्यवाही करें। 
उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ स्वयं अयोध्या में राममंदिर चाहते है और ऐसे मुख्यमंत्री के आने के बाद से राम मंदिर निर्माण चाहने वाला मुस्लिम समाज उनके साथ खड़ा है। इसके लिये एक लम्बे समय वह जागरूकता अभियान चला रहे है। इसके परिणाम स्वरूप उन्हें जान से मारने की धमकी दी जा रही है। 


अधिक राज्य की खबरें