राहुल ने की हनुमान पूजा, जनसभा में मोदी-योगी सरकार पर वार
गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान राहुल ने तकरीबन दो दर्जन मंदिरों के दर्शन किए थे।


अमेठी/रायबरेली : यूपी में कांग्रेस को मजबूत करने में जुटे राहुल गांधी जब बतौर पार्टी अध्यक्ष यहां पहली बार पहुंचे, तो उन्होंने हनुमान मंदिर में पूजा-अर्चना कर अपने दो दिवसीय दौरे की शुरुआत की। वहीं अमेठी जाते हुए राहुल रायबरेली में रुके और हनुमान मंदिर में दर्शन किए। सियासी हलकों में इसे कांग्रेस अध्यक्ष के सॉफ्ट हिंदुत्व कार्ड से जोड़कर भी देखा जा रहा है। गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान राहुल ने तकरीबन दो दर्जन मंदिरों के दर्शन किए थे।

सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष अपनी मां सोनिया गांधी के लोकसभा क्षेत्र रायबरेली पहुंचे और लखनऊ-रायबरेली मार्ग पर स्थित चुरवा हनुमान मंदिर में पूजा की। मंदिर में उन्होंने करीब 10 मिनट का वक्त बिताया। 

निशाने पर मोदी-योगी सरकार 
सलोन की जनसभा में राहुल ने कहा, 'बीजेपी के लोग एक के बाद एक झूठ बोलते हैं। 15 लाख रुपये का झूठ हो या किसानों को सही दाम देने का झूठ या फिर सड़क बनाने की बात हो। यह आपकी जिम्मेदारी है कि इनका (बीजेपी का) झूठ जनता के बीच जाकर बताइये।' 

राहुल ने कहा, 'और जो हमारा विकास का काम है, चाहे हाईवे का काम हो, रेल लाइन का काम हो या फूड पार्क और पेट्रोलियम संस्थान का काम हो, इसके बारे में अमेठी की जनता को बताइये ।' 


उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे जनता को जाकर बताएं कि कांग्रेस ने क्या किया और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनके साथ क्या किया। राहुल ने गुजरात का उल्लेख करते हुए कहा कि गुजरात में 30 लाख बेरोजगार युवा खड़े हैं । वे रोजगार मांग रहे हैं लेकिन मोदी कुछ नहीं कहते । 


उन्होंने कहा कि चीन में अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार मिलता है लेकिन मोदी सरकार के कार्यकाल में भारतीय युवाओं के पास रोजगार के ऐसे अवसर नहीं हैं । राहुल बोले, 'प्रधानमंत्री मोदी ने दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात की थी। क्या यहां एक भी ऐसा युवा है, जिसे रोजगार मिला हो। हमारा मुकाबला चीन से है। मैं आपको बताना चाहूंगा कि चीन की सरकार हर 24 घंटे में 50 हजार युवाओं को रोजगार देती है। मैंने यह मुद्दा लोकसभा में उठाया था।' 

योगी का राहुल पर निशाना 
कांग्रेस अध्यक्ष के यूपी आगमन के कुछ ही घंटे के भीतर राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राहुल को सलाह दी कि वह नकारात्मक राजनीति छोड़कर विकास पर ध्यान केन्द्रित करें। योगी ने गोरखपुर में संवाददाताओं से कहा, 'कांग्रेस अध्यक्ष को नकारात्मक राजनीति छोड़ देनी चाहिए। राहुल सकारात्मक राजनीति करें। कांग्रेस व अन्य विपक्ष नकात्मक राजनीति करता है। यह होने वाले विकास में अनावश्यक बाधा पैदा करता है।' 

उन्होंने राहुल को सलाह दी कि वह अमेठी के विकास के बारे में थोड़ा ध्यान दें, क्योंकि वहां चार पीढ़ी से प्रतिनिधित्व के बावजूद अपेक्षित विकास नहीं हो पाया। 

गर्मजोशी से स्वागत 
इससे पहले राजधानी लखनऊ पहुंचने पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया। स्थानीय पार्टी कार्यकर्ता राम कुमार ने बताया कि राहुल गांधी अक्सर अपने लोकसभा क्षेत्र अमेठी आते हैं। संभवत: ऐसा पहली बार है जब उन्होंने यहां के मंदिर में पूजा की। 

राजनीतिक हलकों में इसे हिन्दुत्व कार्ड से जोड़कर देखा जा रहा है। वह 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले पार्टी कार्यकर्ताओं में जोश का संचार करने के इरादे से राहुल राज्य के दौरे पर हैं। यूपी विधानसभा चुनाव से पहले राहुल 9 सितंबर 2016 को अयोध्या स्थित हनुमान गढ़ी मंदिर भी गए थे। 

बाबरी मस्जिद ढहाये जाने के बाद अयोध्या जाने वाले वह नेहरू-गांधी परिवार के पहले सदस्य हैं। हनुमान गढ़ी, अयोध्या में विवादित राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद स्थल से एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। हनुमान गढ़ी में दर्शन से पहले राहुल ने महंत ज्ञानदास से मुलाकात की थी। 

कांग्रेस को राहुल से उम्मीद 
गुजरात विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान राहुल ने 20 मंदिरों में दर्शन किए थे। चुनाव परिणाम आने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने सोमनाथ मंदिर  जाकर पूजा की थी। राहुल की इस रणनीति ने काम भी किया और कांग्रेस ने राज्य में 77 सीटों पर जीत दर्ज की तथा उसका मत प्रतिशत 2012 के 39 प्रतिशत के मुकाबले बढ़कर 41.5 प्रतिशत हो गया। 

इस बीच उत्तर प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता अशोक सिंह ने कहा कि हमें उम्मीद है कि उत्तर प्रदेश में राहुल के मंदिर जाने से आगामी लोकसभा चुनाव और 2022 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को फायदा होगा। 

अमेठी में राहुल का विरोध 
इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष को अपने लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र अमेठी में नाराज प्रदर्शनकारियों का सामना करना पड़ा। राहुल गांधी की गाड़ियों का काफिला रायबरेली स्थित सलोन से जैसे ही परसदेपुर के लिए रवाना हुआ, बीजेपी के कुछ कार्यकर्ताओं ने उनके खिलाफ नारेबाजी की। बीजेपी और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच इस दौरान झड़प भी हो गयी, जिसके बाद पुलिस को हस्तक्षेप करना पड़ा। 

रायबरेली से कांग्रेस विधान परिषद सदस्य दीपक सिंह को अपर पुलिस अधीक्षक शेखर सिंह के साथ बहस करते देखा गया। इसके बाद प्रदर्शनकारियों को खदेड़ा गया, जिस पर बीजेपी के स्थानीय विधायक दलबहादुर कोरी ने गंभीर आपत्ति व्यक्त की। अमेठी में भी राजीव गांधी चौक पर राहुल को नाराज प्रदर्शनकारियों का सामना करना पड़ा। वह अपने पिता की मूर्ति पर माल्यार्पण नहीं कर सके। 

बीजेपी नेता एवं स्थानीय कारोबारी राजेश 'मसाला' ने राहुल गांधी को लापता सांसद करार देते हुए आरोप लगाया कि उन्होंने अपने ट्रस्ट के लिए किसानों की भूमि हड़पी है और अमेठी के विकास की अनदेखी की है। 


अधिक राज्य की खबरें