Padmaavat: फिल्म में ऐसा कुछ भी नहीं, जो राजपूतों की शान के खिलाफ हो
पद्मावत पिछले कुछ समय से लगातार सुर्ख़ियो में है. फ़िल्म को कई प्रदेश में बैन करने की कोशिश की जा रही थी.


फ़िल्म पद्मावत पिछले कुछ समय से लगातार सुर्ख़ियो में है. फ़िल्म को कई प्रदेश में बैन करने की कोशिश की जा रही थी, हालाँकि सुप्रीम कोर्ट ने ऐसी तमाम दलीलें ख़ारिज कर संजय लीला भंसाली को राहत दी और फ़िल्म बैन करने की दलील ख़ारिज कर दी गई.

फ़िल्म को लेकर अभी भी करणी सेना और राजपूतों के प्रोटेस्ट की ख़बरें देश के कई कोने से आ रही है लेकिन ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या वाक़ई फ़िल्म पर इस तरह सवाल खड़े करना जायज़ है. मैंने मीडिया की स्पेशल स्क्रीनिंग में मुंबई में फ़िल्म देखी

असल में यह रानी पद्मावती और चित्तौड़ के राजा रतन सिंह की प्रेम कहानी है, जिन्हें रानी पद्मावती हिरण के शिकार के चक्कर में ग़लती से घायल कर बैठती है. इधर चित्तौड़ के राजा सिर्फ़ तीर और शरीर से ही नहीं, बल्कि रानी पद्मावती के रंग रूप और नैनों से भी घायल होते है. राजा और रानी का प्यार विवाह के बंधन में बँध जाता है

इधर हर ख़ूबसूरत चीज को हड़पने का आदी अलाउद्दीन ख़िलजी दिल्ली पर विजय हासिल कर जलालुद्दीन ख़िलजी को मार राजगद्दी हासिल कर लेता है और तभी उसे रानी पदमावती की ख़ूबसूरती के बारे में पता चलता है. बिना देखे ही अलाउद्दीन ख़िलजी रानी पद्मावती को पाने के लिए कई राजनीतिक पैंतरों के साथ कई बार चित्तौड़ पर आक्रमण करता है. यहां तक कि आखिर में पद्मावती के पति राजा रतन सिंह को अलाउद्दीन ख़िलजी धोखे से मार डालता है. लेकिन उसके सब पैंतरे धरे के धरे रह जाते है, जब रानी पद्मावती अलाउद्दीन ख़िलजी की शरण में आने के बजाय राजपूत महिलाओं के साथ जौहर करती है.

फ़िल्म में रनबीर सिंह का सनकीपन कमाल का है. रनबीर निगेटिव किरदार में ख़ूब जमे तो वही रानी पद्मावती के किरदार में दीपिका कमाल की ख़ूबसूरती के साथ अभिनय करती हुई नज़र आईं.

हालाँकि शाहिद कपूर को लेकर जितनी उम्मीदें थी, वे किरदार में उतने खरे नहीं उतरते. शाहिद अभिनय के मामले में दीपिका और रनबीर की अपेक्षा काफ़ी कमज़ोर रहे. इसके अलावा रजा मुराद और अदिति हैदरी का काम भी क़ाबिले तारीफ़ रहा.

बाक़ी फ़िल्म में संजय लीला भंसाली के सेट और संगीत की जितनी तारीफ़ की जाए, कम है. हालाँकि फ़िल्म में कुछ ख़ामियाँ भी है लेकिन अलाउद्दीन ख़िलजी के डायलॉग और रानी पद्मावती की ख़ूबसूरती कई ख़ामियों को छुपाने में कामयाब रही.

इस तरह की ख़बरें थी कि फ़िल्म से दीपिका का घूमर डांस काट दिया गया है. लेकिन दीपिका के घूमर डांस को पसंद करने वालों के लिए अच्छी ख़बर है. इस सिक्वेंस को कट नहीं किया गया. फ़िल्म में दीपिका का घूमर नज़र आएगा.

बाक़ी रही बात करणी सेना की तो ना जाने क्यूँ करणी सेना को पद्मावती से आपत्ति हुई. क्योंकि फ़िल्म राजपूतों का गौरव बढ़ाती है. फ़िल्म में ऐसा कुछ भी नहीं जो राजपूतों की शान के ख़िलाफ़ हो. फिल्म तीन स्टार के क़ाबिल है


अधिक देश की खबरें

JNUSU प्रेसिडेंट का निर्मला सीतारमण पर पलटवार, 'असल मुद्दों से ध्यान भटकाना चाहती हैं वह'..

जवाहर लाल नेहरू छात्र संघ (जेएनयूएसयू) के अध्यक्ष एन साई बालाजी ने रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण के बयान ... ...