सेना का ओवैसी को जवाब- हम मज़हब से दूर, शहादत को सांप्रदायिक रंग नहीं देते
Demo Pic


जम्मू, जम्मू के सुंजवान में ऑर्मी कैंप पर आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों के धर्म को लेकर विवादित बयान देने वाले असदुद्दीन ओवैसी को सेना की उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल देवराज अनबू ने जवाब दिया है. लेफ्टिनेंट जनरल अनबू ने साफ कहा कि हम शहादत को सांप्रदायिक रंग नहीं देते. उन्होंने ओवैसी का नाम लिए बगैर ही कहा,  ऐसे बयान देने वाले लोग सेना को ठीक ढंग से नहीं जानते.

दरअसल ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) प्रमुख ओवैसी का मंगलवार को एक बयान सामने आया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि आतंकी हमले में शहीद हुए 7 लोगों में से 5 मुस्लिम थे, लेकिन फिर भी तथाकथित राष्ट्रवादी लोग मुसलमानों की देशभक्ति पर सवाल करते हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल अनबू ने मीडिया से बातचीत में सुंजवान कैंप सहित हालिया आतंकी हमलों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'दुश्मन फ्रस्टेटेड हैं, जब वे सीमा पर फेल होते हैं तो सेना के कैंप्स पर हमला करते हैं.'

इस दौरान उन्होंने युवाओं के आतंकियों संगठनों से जुड़ने को लेकर चिंता भी जताई. अनबू ने कहा, 'हां युवाओं का आतंकियों से जुड़ना चिंता का विषय है. 2017 में हमारा ध्यान आतंकी सरगनाओं के खात्मे पर था, अब हमें इस पर ध्यान देना होगा.'

अनबू ने युवाओं के आतंकियों से जुड़ाव के लिए सोशल मीडिया को जिम्मेदार ठहराया है. अनबू ने कहा, आतंकी घटनाओं में इजाफे के लिए सोशल मीडिया भी जिम्मेदार है. यह बड़े पैमाने पर युवाओं को आकर्षित कर रहा है और मुझे लगता है कि हमें इस मसले पर भी अब ध्यान देने की जरूरत है.

सेना की उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल अनबू ने कहा कि हिज्बुल मुजाहिदीन, जैश ए मोहम्मद और लश्कर ए तैयबा- ये तीनों आतंकी संगठन एक दूसरे जुड़े हुए हैं. इनमें कोई फर्क नहीं, वे एक तंजीम से दूसरे में जाते रहते हैं. लेकिन देश के खिलाफ हथियार उठाने वाले सभी आतंकी है और हम उसके साथ सख्ती से निपटेंगे.


अधिक देश की खबरें